राजस्थान: पुलवामा की घटना पर राज्य भर में हुआ विरोध-प्रदर्शन, लोगों ने दी श्रद्धांजलि

राजधानी जयपुर समेत राज्य के कई जिलों में आम लोगों ने पुलवामा के शहीदों को याद कर कई कार्यक्रम किए.

राजस्थान: पुलवामा की घटना पर राज्य भर में हुआ विरोध-प्रदर्शन, लोगों ने दी श्रद्धांजलि
राजधानी जयपुर में एक कार्यक्रम के दौरान मौजूद लोग.

शशि मोहन, जयपुर: पुलवामा आतंकी घटना को लेकर राजधानी जयपुर समेत राज्य के अलग अलग हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हुआ. इस दौरान राजधानी जयपुर के अमर जवान ज्योति पर सैकड़ों की संख्या में मौजूद लोगों ने प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारी पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे. इस दौरान मौजूद लोगों ने पाकिस्तान का झंडा भी जलाया. साथ ही आतंकवादियों के पुतले भी जलाए गए.

शहर के कई हिस्सों में आम लोगों ने कार की छत पर चढ़कर पाकिस्तान के खिलाफ जमकर आक्रोश जताया. राज्य के युवाओं ने कई कार्यक्रमों के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हमले की जवाबी कार्रवाई की मांग की. 

इस दौरान मौजूद लोगों ने कहा कि पाकिस्तान पर हमला कर उसे नेस्तनाबूत कर दिया जाए. वहीं, किसी ने एक और सर्जिकल स्ट्राइक की बात कही. मौके पर लोगों ने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए उनके परिवार के लोगों को दुख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना की.

बीजेपी मुख्यालय में भी हुई श्रद्धांजलि सभा

वहीं, शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में भी श्रद्धांजलि सभा हुई. इस सभा में प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी और प्रदेश संगठन महामन्त्री चन्द्रशेखर के साथ ही प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना, सांसद रामचरण बोहरा, किरोड़ीलाल मीणा, राष्ट्रीय सह-संगठन महामन्त्री वी सतीश प्रदेश पदाधिकारी भजनलाल शर्मा, अल्का गुर्जर, मुकेश दाधीच, मुकेश पारीक और प्रवक्ताओं की टीम के साथ ही पार्टी के अन्य पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे. कार्यक्रम के दौरान प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने कहा कि सरकार इस हमले का जवाब ज़रूर देगी. साथ ही खन्ना ने कहा कि उनकी पार्टी सैनिकों के परिजनों के प्रति भी अपनी जवाबदेही रखती है और उनका ध्यान भी रखा जाएगा. 

राज्य सचिवालय में भी हुआ कार्यक्रम

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकी हमले में शहीद सीआरपीएफ के जवानों को सचिवालय में श्रद्धांजलि दी गई. इस श्रद्धांजलि कार्यक्रम में सैनिक कल्याण मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, मंत्री रमेश मीणा, सचिवालय के अधिकारी और कर्मचारियों ने 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी. जिसके बाद सचिवालय कर्मचारियों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए. 

कैबिनेट मंत्री खाचरियावास ने भी जताया विरोध

वहीं, शहीदों को श्रद्धांजलि देने के दौरान कार्यक्रम में मौजूद राज्य सरकार के मंत्री खाचरियावास ने कहा, ''इस विपरीत स्थिति में भारत देश की सभी राजनीतिक पार्टिया भारत सरकार के साथ खड़ी है. पाकिस्तान ने कायरता की हद पार की है. इसको बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए. पाकिस्तान के घर में घुसकर गोली से जवाब देना होगा. इन सभी शहीद परिवारजनों के साथ राजस्थान की सरकार इस दुख की घडी में हर तरह का सहयोग करेगी. शहीदों का परिवार अकेला नहीं है पूरे राजस्थान की जनता उनके साथ है. देश के 44 शहीदों की सहादत व्यर्थ नहीं जाएगी. इसका देश मुहं तोड के जबाव देगा. अब देश चुप नहीं बैठेगा गोली का जवाब गोली ठोंककर दिया जाएगा.''

पूर्व सैनिकों में भी है आक्रोश

राज्य में रहने वाले पूर्व सैनिकों के मन में भी अपने जवानों को खोने का आक्रोश है. मीडिया से बातचीत में कर्नल पूरन मीना ने कहा, ''यह हमला पूरी तरह कायराना है, देश को अब निंदा नहीं, बल्कि तत्काल कार्रवाई करनी होगी.'' रिटायर्ड सैन्य अधिकारियों का कहना था कि पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब देना होगा. वहां चल रहे आतंकी कैम्पों पर और सर्जिकल स्ट्राइक होनी चाहिए.