सीलमपुर-जाफराबाद हिंसा: FIR में कांग्रेस के पूर्व विधायक और आप पार्षद का नाम

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में कांग्रेस के पूर्व विधायक और आप पार्षद का नाम सामने आया है. 

सीलमपुर-जाफराबाद हिंसा: FIR में कांग्रेस के पूर्व विधायक और आप पार्षद का नाम
FIR में कांग्रेस के पूर्व विधायक और आप पार्षद का नाम

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में कांग्रेस के पूर्व विधायक और आप पार्षद का नाम सामने आया है. सीलमपुर-जाफराबाद हिंसा मामले में हुई एफआईआर में कांग्रेस विधायक मतीन अहमद और आप पार्षद अब्दुल रहमान आरोपी बनाए गए हैं. एफआईआर में कहा गया है कि प्रदर्शनकारी सीलमपुर टी प्वाइंट पर इकट्ठा होकर उग्र होने लगे और पुलिस पर ईंट-पत्थर और पेट्रोल की बोतलें फेंकने लगे. दोपहर 2.30 बजे के करीब अनियंत्रित भीड़ थाना जाफराबाद के पास आई और जाफराबाद के पार्षद अब्दुल रहमान निगम के उकसाने पर भीड़ इकट्ठा हो गई. 

इसी दौरान मौजपुर से अनियंत्रित भीड़ आकर इसमे शामिल हो गई और बाइक रैली वाले पूर्व सीलमपुर विधायक मतीन अहमद के नेतृत्व में CAA बिल के विरोध में नारे लगा रहे थे. इन लोगों के पास प्रदर्शन की अनुमति नहीं थी. SHO ने पहले ही मतीन अहमद को बताया था कि इस मुद्दे को लेकर लोगों में भ्रम और रोष की स्थिति है और बाइक रैली निकालने से लोग भड़क सकते हैं. लेकिन इसके बावजूद पूर्व विधायक ने अपने नेतृत्व में इस रैली को निकाला. मतीन अहमद के भड़काने पर भीड़ ने नारेबाजी की और उग्र रूप ले लिया. 

इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने ईंट पत्थर और कांच की बोतलें डयूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों पर फेंकना शुरू कर दिया और पत्थरबाजी भी की. जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए. इस स्थिति से निपटने के लिए पुलिस बल का प्रयोग किया गया और आंसू गैस के गोले छोड़े गए. एफआईआर में यह भी कहा गया है कि प्रदर्शनकारियों ने पब्लिक टॉयलेट को जला दिया. एक ऑल्टो कार समेत कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की. सार्वजनिक और निजी संपत्ति को आग के हवाले किया.