close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जम्‍मू-कश्‍मीर से लौटे गृह मंत्री अमित शाह लोकसभा में बोले, 'जहां आतंकवाद की जड़ है, हम वहां घुसकर मारेंगे'

गृह मंत्री अमित शाह ने सदन में कहा कि जम्‍मू और कश्‍मीर में 132 बार धारा 356 लगाई गई. इनमें से कांग्रेस ने 93 बार धारा 356 लगाई है. अमित शाह के भाषण के दौरान लोकसभा में पाकिस्‍तान शेम शेम के नारे भी लगे.

जम्‍मू-कश्‍मीर से लौटे गृह मंत्री अमित शाह लोकसभा में बोले, 'जहां आतंकवाद की जड़ है, हम वहां घुसकर मारेंगे'
लोकसभा में बोले गृह मंत्री अमित शाह.

नई दिल्‍ली : जम्‍मू-कश्‍मीर के दो दिनी दौरे से लौटे गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को लोकसभा में राज्‍य के हालात को लेकर जानकारी दी. उन्‍होंने इस दौरान कहा कि जम्‍मू और कश्‍मीर में फैला आतंकवाद पाकिस्‍तान की वजह से है. आतंकवाद के खिलाफ हमारी सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति है. उन्‍होंने साफ तौर पर कहा कि जहां भी आतंकवाद की जड़ है, हम वहां घुसकर मारेंगे. उन्‍होंने सदन में कहा कि जम्‍मू और कश्‍मीर में 132 बार धारा 356 लगाई गई. इनमें से कांग्रेस ने 93 बार धारा 356 लगाई है.

 

लोकसभा में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हमारी सरकार ने जेकेएलएफ पर प्रतिबंध लगाया. हमारी सरकार ने ही कट्टरवादी संगठन जमात-ए-इस्‍लामी पर भी प्रतिबंध लगाया. उन्‍होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत विरोधी लोगों को सुरक्षा दी. कांग्रेस ने जमात-ए-इस्‍लामी को क्‍यों प्रतिबंधित नहीं किया.  

गृह मंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया ने माना है कि आतंकवाद के खिलाफ भारत की नीति बदली है. हम आतंकियों को घर में घुसकर मारेंगे. इससे पहले जम्मू और कश्‍मीर में राष्‍ट्रपति शासन को 6 महीने और बढ़ाने की सिफारिश की थी. उन्‍होंने कहा कि जम्‍मू और कश्‍मीर में पूरी तरह से स्‍वतंत्र और निष्‍पक्ष विधानसभा चुनाव होंगे. उनमें सरकार का कोई दखल नहीं होगा. जम्‍मू-कश्‍मीर के रोग को समझकर उसकी दवा करनी पड़ेगी.

उन्‍होंने कहा कि भारत को आत्‍मरक्षा का अधिकार है. सर्जिकल स्‍ट्राइक पर सवाल उठाए गए. बालाकोट एयर स्‍ट्राइक पर सवाल उठाने की किसी में हिम्‍मत नहीं है. जैसी संधि जम्‍मू-कश्‍मीर के साथ हुई थी, वैसी ही संधि 63 अन्‍य रियासतों के साथ भी हुई थी. लेकिन कश्‍मीर के लोगों के साथ भरोसा बनाने की कोशिश नहीं हुई.

उन्‍होंने कहा कि हम तब भी बंटवारे के पक्ष में नहीं थे और आज भी नहीं हैं. कांग्रेस बताए देश का बंटवारा क्‍यों हुआ? धर्म के आधार पर देश का बंटवारा नहीं होना चाहिए था. उन्‍होंने जवाहरलाल नेहरू पर निशाना साधते हुए कहा कि कश्‍मीर पर नेहरू ने देश के गृह मंत्री को भी भरोसे में नहीं लिया. नेहरू की भूल के कारण ही देश आज भी सजा भुगत रहा है.