पब्जी गेम खेलने के लिए नहीं मिला बड़ी स्क्रीन वाला मोबाइल, तो बच्चे ने पंखे से लटक कर दे दी जान

घरवालों ने उसे पब्जी खेलने के लिए मना कर दिया, लेकिन बच्चा फिर भी नहीं माना और घरवालों से बड़े स्क्रीन वाले मोबाइल की मांग की.

पब्जी गेम खेलने के लिए नहीं मिला बड़ी स्क्रीन वाला मोबाइल, तो बच्चे ने पंखे से लटक कर दे दी जान
बड़े भाई ने रात डेेढ़ बजे मोबाइल पर पब्जी खेलते देक लगाई थी डांट (नदीम कुरैशी)

प्रशांत अंकुशराव/नई दिल्लीः ब्ल्यू व्हेल गेम के बाद अब युवाओं पर पब्जी गेम का खुमार छाया है. कुर्ला में रहने वाले 18 वर्षीय नदीम कुरैशी ने पब्जी खेलने के लिए मोबाईल ना मिलने पर खुदकुशी कर ली. दरअसल, नदीम को पब्जी खेलने के लिए बड़ी स्क्रीनवाला मोबाईल चाहए था, लेकिन घरवालों ने बच्चे को मोबाइल दिलाने से मना कर दिया. जिसके चलते शुक्रवार की रात बच्चे ने किचन में पंखे से लटक कर खुदकुशी कर ली. परिवारवालों के मुताबिक बच्चा कुछ समय पहले से ही पब्जी खेलने लगा था, दिन हो या रात वह पब्जी ही खेलता रहता था, जिससे घरवालों ने उसे पब्जी खेलने के लिए मना कर दिया, लेकिन बच्चा फिर भी नहीं माना और घरवालों से बड़े स्क्रीन वाले मोबाइल की मांग की.

PUBG पर पीएम का ज्ञान बच्चों को कैसे बनाएगा महान ?

लेकिन परिजनों ने बच्चे को मोबाइल देने से मना कर दिया और बच्चे ने शुक्रवार की रात किचन में लगे पंखे से लटकर खुदकुशी कर ली. नेहरु नगर पुलिस स्टेशन के सीनियर पीआई विलास शिंदे ने बताया की "शुक्रवार को नदीम ने अपने भाई से नया मोबाईल खरीदने के लिए 37 हजार रुपये मांगे थे. जिसका डिस्ल्पे अच्छा था और साऊंड भी. बच्चा मध्यमवर्ग परीवार से है, जो बच्चे को सिर्फ गेम खेलने के लिए इतना कीमती मोबाइल नहीं खरीदना चाहते थे.

'परीक्षा पे चर्चा' में PM मोदी को करना पड़ा PUBG का जिक्र, यह था कारण

वहीं रात को डेढ़ बजे बड़ा भाई उठा तो उसने देखा की वह पब्जी खेल रहा है. भाई ने डांट लगाई और सोने के लिए कहकर वहां से चला गया. वहीं जब सुबह बहन की नींद खुली तो उसने देखा कि किचन में बच्चे का शव पंखे से लटक रहा था. ऐसे में बच्चे के पब्जी के पागलपन में खुदकुशी करने की वजह से घरवाले सदमे में हैं. घरवालो कुछ भी कहने की स्थिति में नही हैं. पडोसी याकूब कुरैशी ने बताया की बच्चे को अक्सर आस-पास भी मोबाईल में घुसा हुआ देखा जा रहा था. पिछले दिनों से उसके मोबाईल की लत बढ़ती जा रही थी. ना वह हम उम्र बच्चो के साथ खेलता ना ही कुछ काम करता था.