close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चंबल बैराग से पानी छोड़ने के बाद कोटा में आई बाढ़, दर्जनों बस्तियां हुईं जलमग्न

देर रात भी SDRF और नगर निगम की टीम ने कई फंसे लोगों को पानी से निकाला. विधायक संदीप शर्मा भी देर रात को इलाके का जायजा लेने पहुंचे. 

चंबल बैराग से पानी छोड़ने के बाद कोटा में आई बाढ़, दर्जनों बस्तियां हुईं जलमग्न
देर रात भी SDRF और नगर निगम की टीम ने कई फंसे लोगों को पानी से निकाला.

कोटा: मध्यप्रदेश के कई इलाकों में हो रही लगातार बारिश के कारण चंबल बैराग से छोड़े गए पानी के बाद शहर के कई इलाकों में बाढ़ आ गई है तो वहीं कई अन्य इलाकों में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है. चंबल नदी के किनारे के इलाके पूरी तरह से जलमग्न हो गए हैं. जानकारी के अनुसान शहर के कई इलाकों में किसी व्यस्क व्यक्ति के गले तक पानी भर गया है. 

निचली बस्तियों में तो हालात ये हैं कि घर के दरवाजे तक पानी में डूब चुके हैं. मजूबरन लोगों को अपने घरों की छतों पर रात गुजारनी पड़ी. जिसकी वजह से SDRF और नगर निगम की टीम मिलकर संयुक्त रुप से राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई है. देर रात भी SDRF और नगर निगम की टीम ने कई फंसे लोगों को पानी से निकाला. विधायक संदीप शर्मा भी देर रात को इलाके का जायजा लेने पहुंचे. 

इस वजह से उत्पन्न हुए बाढ़ के हालात
दरअसल, मध्यप्रदेश में पिछले कई दिनों से लगातार बारिश हो रही है. मौसम विभाग की माने तो अगले कुछ दिनों तक रेड अलर्ट, ऑरेंज अलर्ट और येलो अलर्ट जारी किया गया है. मौसम विभाग के अनुसार, छत्तीसगढ़ के आसपास कम दवाब का क्षेत्र बना है और द्रोणिका का भी असर है, जिससे राज्य में बारिश का क्रम बना हुआ है. जिसका असर अब राजस्थान के कोटा में देखने को मिल रहा है. 

नतीजा ये है कि चंबल नदी में लगातार पानी बढ़ता जा रहा है और अब वो हाहाकार मचाती हुई बह रही है. पानी की आवक बढ़ने की वजह से चंबल के सभी बांधों से पानी छोड़ा जा रहा है. कोटा बैराज डैम से इस सीजन का सबसे ज्यादा पानी छोड़ा जा रहा है. कोटा बैराज डैम के गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है. जिसकी वजह से निचले इलाकों में पानी भर गया है.