पंजाब सरकार जल्द निकाल सकती है 1.2 लाख वैकेंसी, इन विभागों में होगी नियुक्ति

सरकार द्वारा यह कदम राज्य बहुत समय से विभागों में खाली पड़े पदों को भरने के लिए उठाया गया है

पंजाब सरकार जल्द निकाल सकती है 1.2 लाख वैकेंसी, इन विभागों में होगी नियुक्ति
जल्द ही राज्य सरकार खाली पड़े पदों के लिए निकाल सकती है भर्तियां. प्रतीकात्मक फोटो

चंडीगढ़ः पंजाब में बेरोजगारी से परेशान युवाओं के लिए पंजाब सरकार जल्द ही अलग-अलग विभागों में नौकरी का पिटारा खोलने जा रही है. बताया जा रहा है कि राज्य सरकार जल्द ही 1 लाख से ज्यादा भर्तियां निकालने जा रही है. सरकार द्वारा यह कदम राज्य विभागों में खाली पड़े पदों को भरने के लिए उठाया गया है. आधिकारिक प्रवक्ता के अनुसार राज्य में इस भर्ती के माध्यम से शिक्षा विभाग, चिकित्सा विभाग, स्वास्थ्य विभाग और शोध जैसे विभागों में खाली पड़े पदों को भरने का काम किया जाएगा. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने उच्च स्तरीय बैठक में अधिकारियों से बात करते हुए कहा कि पंजाब में रिक्त पदों पर भर्ती के लिए पहले मेडिकल, एजुकेशन और रिसर्च जैसे विभागों को प्राथमिकता दी जाएगी और उसके बाद अन्य विभागों में भी भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी.

पंजाब: CM अमरिंदर ने की केंद्रीय मंत्री गडकरी से मुलाकात, राजमार्ग परियोजनाओं पर हुई चर्चा

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुख्य सचिव करण अवतार सिंह को निर्देश देते हुए कहा कि सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों को भरने के लिए आवश्यक मुद्दों और इसके तौर-तरीकों पर ध्यान दिया जाए. इसके बाद सभी अधिकारियों से चर्चा कर इसकी पूरी एक रूपरेखा तैयार करें और प्रशासनिक सचिवों के साथ मीटिंग कर इस पर चर्चा करें. बता दें कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने ये निर्देश प्रदेश सरकार की घर-घर रोजगार और कारोबार मिशन स्कीम की प्रगति का जायजा लेने के लिए बुलाई एक उच्च स्तरीय बैठक के दौरान दिए हैं.

पंजाब-जम्मू सीमा पर इनोवा गाड़ी छीनकर फरार हुए 4 संदिग्ध, तलाश जारी

वहीं प्रवक्ता ने बताया कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने घर-घर रोजगार और कारोबार मिशन के तहत तुरंत 5 करोड़ रुपए का फंड जारी करने का निर्देश भी दिया है. उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने घर-घर रोजगार और कारोबार मिशन के अंतर्गत अब तक 4.53 लाख नौजवानों को नौकरियां मुहैया करवाई गई हैं. वहीं मीटिंग के दौरान मुख्यमंत्री ने नौकरियां और कौशल प्रशिक्षण संबंधी योग्यता के बीच के अंतर को खत्म करने पर जोर देते हुए रोजगार सृजन, कौशल विकास मिशन और प्रशिक्षण विभाग के बीच बढ़िया तालमेल पर भी जोर दिया.  बेरोजगारी की समस्या को दूर करने के लिए उन्होंने अर्ध कुशल और अकुशल उम्मीद्वारों को प्रशिक्षण देने और उन्हें योग्य बनाने के मिशन पर भी चर्चा की.