महाराष्ट्र: उद्धव सरकार की अग्निपरीक्षा, विधानसभा में आज साबित करना है बहुमत

 शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस वाली सत्तारूढ़ 'महा विकास अघाड़ी' का दावा है कि उसके पास 170 विधायकों का दावा है. महाराष्ट्र विधानसभा मे बहुमत का आँकडा 145 है. 

महाराष्ट्र: उद्धव सरकार की अग्निपरीक्षा, विधानसभा में आज साबित करना है बहुमत
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को कामकाज संभाल लिया. (फोटो - ANI)

मुंबई: उद्धव सरकार की आज पहली परीक्षा है. आज दोपहर दो बजे उद्धव सरकार को अपना बहुमत साबित करना है. शिवसेना(Shiv Sena) -एनसीपी (NCP)-कांग्रेस (congress) वाली सत्तारूढ़ 'महा विकास अघाड़ी' का दावा है कि उसके पास 170 विधायकों का दावा है.  महाराष्ट्र (Maharashtra) विधानसभा मे बहुमत का आँकडा 145 है. 

बता दें उद्धव सरकार के बहुमत साबित करने, नए अध्यक्ष के चुनाव, विरोधी पक्ष नेता की घोषणा और राज्यपाल के अभिभाषण के लिए विधानसभा के दो दिन का विशेष सत्र बुलाया गया है. 

क्या होगा आज विधानसभा में?
शनिवार को दोपहर दो बजे विधानसभा के सदन की कार्यवाही शुरू होगी. सदन मे सबसे पहले प्रोटेम स्पीकर के नाम का एलान होगा. प्रोटेम स्पीकर के आदेश के बाद शिवसेना की उद्धव ठाकरे सरकार की कैबिनेट मे शपथ ले चुके नये मंत्रियों का पहले सदन मे परिचय कराया जायेगा.

उसके बाद शनिवार को ही मुख्यमंत्री उद्वव ठाकरे (uddhav thackeray) शिवसेना अगुवाई वाली महाराष्ट्र विकास आघाडी का सदन मे विश्वास मत रखेंगे. नये प्रोटेम स्पीकर की अध्यक्षता मे विधानसभा के सदन मेँ शिवसेना सरकार के विश्वास मत पर वोटिंग होगी. इसी के साथ ही मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सरकार को विधानसभा के सदन मे अपना बहुमत साबित करना होगा.

दिलीप वाल्से-पाटिल होंगे प्रोटेम स्पीकर 
एनसीपी के वरिष्ठ नेता दिलीप वाल्से-पाटिल महाराष्ट्र विधानसभा के अस्थायी अध्यक्ष (प्रो-टेम स्पीकर) होंगे. अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी देते हुए कहा कि दिलीप वाल्से शनिवार को बुलाए गए सदन के विशेष सत्र की अध्यक्षता करेंगे.

इससे पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार दोपहर को 'मंत्रालय' में औपचारिक रूप से कार्यभार संभाल लिया. राज्य सरकार के मुख्यालय पहुंचे ठाकरे, उनकी पत्नी रश्मि, परिवार के कुछ सदस्यों, बेटे आदित्य और अन्य लोगों ने सबसे पहले शहीद स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की. इस स्मारक को संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन में अपना जीवन कुर्बान करने वालों की याद में बनाया गया है. उद्धव व आदित्य ठाकरे ने मंत्रालय के निकट स्मारक पर जाकर पुष्पांजलि अर्पित की.

बाद में उन्होंने मंत्रालय के भीतर बी.आर.आंबेडकर, छत्रपति शिवाजी महाराज व दूसरे ऐतिहासिक शख्सियतों को पुष्पांजलि अर्पित की. ठाकरे के साथ, उनके मंत्रिमंडल के छह सहयोगी- शिवसेना के एकनाथ शिंदे और सुभाष देसाई, राकांपा के जयंत पाटील और छगन भुजबल, और कांग्रेस के बालासाहेब थोरात और नितिन राउत ने अपने संबंधित कार्यलयों में कार्यभार संभाला.