एक वीडियो ने पत्नी को बनाया 'हैवान', कानून की सारी धाराएं जानते हुए भी ले ली पति की जान

रोहित की मां उज्जवला ने पुलिस को बताया था कि बेशक रोहित और अपूर्वा ने आपसी सहमति से शादी की हो, लेकिन दोनों का दाम्पत्य जीवन ठीक नहीं था. हालाक कुछ ऐसे हो गए थे कि बात तलाक तक पहुंच गई थी.

एक वीडियो ने पत्नी को बनाया 'हैवान', कानून की सारी धाराएं जानते हुए भी ले ली पति की जान

नई दिल्ली : कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे दिवंगत एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मौत से पर्दा उठ चुका है. रोहित की मौत के बाद से जैसा की पुलिस को शक था हत्यारा घर का बी निकला. रोहित की हत्या को अंजाम किसी और ने नहीं बल्कि खुद उनकी पत्नी अपूर्वा ने दी. अपूर्वा द्वारा पति की मौत की साजिश के पीछे संपत्ति का लालच बताया जा रहा है. वहीं, पुलिस की पूछताछ में अपूर्वा ने कहा है कि वो रोहित की शराब पीने की आदत से बहुत ज्यादा परेशान हो गई थी, जिसके बाद उसने यह कदम उठाया.

रिश्तों में आ गई थी दरार
रोहित की मां उज्जवला ने पुलिस को बताया था कि बेशक रोहित और अपूर्वा ने आपसी सहमति से शादी की हो, लेकिन दोनों का दाम्पत्य जीवन ठीक नहीं था. हालाक कुछ ऐसे हो गए थे कि बात तलाक तक पहुंच गई थी. मियां-बीवी में पिछले महीने भी झगड़ा हुआ था. झगड़े के बाद 3 से 29 मार्च तक अपूर्वा अपने मायके में रही थी. इसके बाद अपूर्वा 30 मार्च को वापस डिफेंस कॉलोनी आई थी.

इसके बाद 11 अप्रैल को उत्तरखंड में अपने मतदान का प्रयोग करने के लिए रोहित वहां चले गए. इस दौरान रोहित के साथ अपूर्वा तो नहीं था, लेकिन उनकी एक महिला मित्र थी. 11 अप्रैल की रात को रोहित की खबर जानने के लिए अपूर्वा ने उन्हें वीडियो कॉल किया. अपूर्वा इस बात से बेखबर थी कि रोहित किसी और के साथ है. वीडियो कॉल के दौरान अपूर्वा ने पाया कि रोहित किसी लड़की के साथ है और दोनों शराब पी रहे थे. पति की बाहों में किसी और को देखकर अपूर्वा अपना आपा खो बैठीं और रोहित की हत्या की साजिश रच डाली. 

वापस आने के बाद अपूर्वा और रोहित ने साथा खाया खाना
घर लौटने के बाद रोहित ने अपूर्वा, अपनी मां और रिश्तेदारों के साथ खाना खाया और फिर सब सोने चले गए. पूछताछ में अपूर्वा ने कबूला कि वो रात को रोहित के कमरे में गई और महिला रिश्तेदार के साथ शराब पीने को लेकर दोनों में काफी कहासुनी हुई और अपूर्वा ने रोहित का गला और नाक मुंह दबाकर रोहित की हत्या कर दी, रोहित शराब के नशे में था लिहाजा वो खुद को बचा भी नहीं पाया.

रोहित की जान बचाने की कोशिश भी की
अगले दिन यानि 16 अप्रैल को शाम 4 बजे के आसपास घर के नौकर भोला ने देखा कि रोहित अपने कमरे में बेसुध पड़ा हुआ था और उसकी नाक से खून बह रहा था इसके बाद पहले अपूर्वा की गाड़ी में रोहित को अस्पताल ले जाने की कोशिश हुई लेकिन फिर एम्बुलेंस के आने पर रोहित की बॉडी को साकेत मैक्स अस्पताल ले जाया गया जहा उसे मृत घोषित कर दिया गया.

मैटिमोनियल साइट के जरिए शादी हुई थी
असल में अपूर्वा और रोहित तिवारी की एक साल पहले मैटिमोनियल साइट के जरिए शादी हुई थी लेकिन शुरू से ही इनके शादीशुदा जीवन ठीक नहीं चल रहा था, दोनों अलग अलग कमरे में सोते थे और जल्द तलाक भी लेने वाले थे. खराब रिश्तों के साथ इस नफरत के पीछे शक भी एक अहम कड़ी थी. राजीव रंजन, एडिशनल कमिश्नर, क्राइम ब्रांच के अनुसार, असल में अपूर्वा को अपने पति पर शुरू से शक रहता था. 10 अप्रैल को रोहित अपने परिवार के साथ उत्तराखंड में वोट डालने गया था और रात करीब 10 बजे के आसपास वापस दिल्ली अपने घर डिफेन्स कॉलोनी लौटा.