ZEE जानकारी: नागरिकता कानून के नाम पर देश में क्यों बनाया जा रहा खौफ

सबसे पहली बात ये है कि सुप्रीम कोर्ट ने नए नागरिकता कानून पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. हालांकि इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने एक नोटिस जारी करके..सरकार से दो हफ्तों में जवाब मांगा है . अब यहां समझने वाली बात ये है कि जिस कानून पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल रोक लगाने से इनकार कर दिया है..उसे लेकर हमारे देश में खौफ का माहौल क्यों बनाया जा रहा है.

ZEE जानकारी: नागरिकता कानून के नाम पर देश में क्यों बनाया जा रहा खौफ

अगर आप दुनिया के किसी भी देश के बॉर्डर को गैर कानूनी तरीके से पार करने की कोशिश करेंगे. तो या तो आपको गोली मार जी जाएगी या फिर गिरफ्तार करके जेल में डाल दिया जाएगा और अगर वो देश उदार हुआ तो आपको आपके देश वापस भेज दिया जाएगा. लेकिन अगर वो देश सख्त हुआ तो या तो आप पूरी जिंदगी जेल में बिताएंगे या फिर मार दिए जाएंगे. लेकिन अगर आप भारत की सीमाओं में गैरकानूनी तरीके से आ जाए तो ऐसा नहीं होगा. क्योंकि भारत दुनिया का अकेला ऐसा देश है.

जहां घुसपैठ करने वालों को आधार कार्ड, से लेकर पासपोर्ट तक और मुफ्त शिक्षा से लेकर मुफ्त स्वास्थ्य तक की सुविधाओं दी जाती है और सरकारी सब्सिडी भी मिलती है. और हमारे देश की यही उदारता. कई बार सांप्रदायिक दंगों का कारण भी बन जाती है. इसलिए आज हम डर और अफवाहों की राजनीति करके. देश में सांप्रदायिक दंगों का माहौल बनाने वालों का पर्दाफाश करेंगे.

भारत के संविधान की प्रस्तावना कहती है कि भारत एक धर्म निरपेक्ष देश है . लेकिन हमारे देश में धर्म के नाम पर ही डर दिखाकर लोगों को गुमराह किया जा रहा है और सांप्रदायिक दंगे फैलाने की कोशिश हो रही है . आज हम साजिश का संपूर्ण विश्लेषण करेंगे लेकिन सबसे पहले ये जान लीजिए कि आज सुप्रीम कोर्ट में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर क्या हुआ .

सबसे पहली बात ये है कि सुप्रीम कोर्ट ने नए नागरिकता कानून पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. हालांकि इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने एक नोटिस जारी करके..सरकार से दो हफ्तों में जवाब मांगा है . अब यहां समझने वाली बात ये है कि जिस कानून पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल रोक लगाने से इनकार कर दिया है..उसे लेकर हमारे देश में खौफ का माहौल क्यों बनाया जा रहा है.

दरअसल हमारे ही देश के कुछ नेता, बुद्धीजीवी, फिल्म स्टार्स और कुछ धार्मिक समूह.. नागरिकता कानून को धर्म से जोड़कर अफवाहें फैलाने में लगे हैं . ये लोग ऐसा माहौल बना रहे हैं..जैसे CitizenShip Amendment Bill ..और National Register of citizens Of india यानी NRC नागरिकता कानून नहीं..बल्कि धर्म से जुड़े कानून हैं.

लेकिन ये सच नहीं है और इस झूठ को सिर्फ इसलिए फैलाया जा रहा है..ताकि तुष्टिकरण की राजनीति को जिंदा रखा जा सके और देश को सांप्रादायिक दंगों की आग में झोंक दिया जाए . CAA एक नागरिकता कानून है धार्मिक कानून नहीं है, लेकिन हमारे नेताओं ने चालाकी से इसमें धर्म का एंगल डाल दिया है और लोगों को गुमराह किया जा रहा है .

ये सोचने वाली बात है कि जो कानून सिर्फ पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध और पारसी शरणार्थियों को नागरिकता देने की बात करता है ...वो भारत में हिंदू-मुस्लिम विवाद की वजह कैसे बन सकता है . इस कानून से ना तो भारत के मुसलमानों की नागरिकता छीनी जाएगी और ना ही इस्लामिक देशों से आए मुसलमानों को भारत में बसाय़ा जाएगा . फिर ये कानून भारत में रहने वाले मुसलमानों के लिए खतरा कैसे हो गया ?

लेकिन अफवाहें फैलाकर कुछ लोग मुसलमानों को गुमराह कर रहे हैं...क्योंकि ये लोग चाहते हैं भारत में जो जब चाहे घुस जाए और उसे रोकने वाला कोई ना हो . ये लोग भारत को ऐसा देश बनाना चाहते हैं जहां अवैध रूप से घुसने वालों को पासपोर्ट भी दिया जाए ,राशन कार्ड भी मिले, ड्राइविंग लाइंसेंस मिल जाए, सरकार से सब्सिडी भी मिलने लगे और मुफ्त शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी सेवाएं भी मिल पाए .

इस अफवाह को बहुत सोची समझी साजिश के तहत फैलाया जा रहा है..मुस्लिम समुदाय को ये यकीन दिलाने की कोशिश की जा रही है कि भारत एक हिंदू राष्ट्र बनने वाला है और यहां से मुसलमानों को बाहर निकाल दिया जाएगा या फिर उन्हें Camps में बंद कर दिया जाएगा . लेकिन आप सोचिए जिस देश की लोकसभा में 37 से ज्यादा पार्टियों के सांसद हैं, जिस देश की राज्यसभा में 33 अलग अलग पार्टियों के सांसद हैं...उस देश की संसद किसी एक धर्म को चोट पहुंचाने वाला कानून कैसे पास कर सकती है ?

भारत की संसद के दोनों सदनों में अलग अलग धर्मों से संबंध रखने वाले नेता मौजूद हैं...भारत की अदालतों में हिंदू जज भी हैं..मुसलमान जज भी हैं और सिख और ईसाई जज भी हैं..ऐसे में भारत की अदालतें भी क्या पक्षपात कर सकती हैं ?

महान अमेरिकी लेखक..Mark Twain ने कहा था कि भारत पूरी मानव सभ्यता का पालन-पोषण करने वाला देश है . यहीं भाषा का जन्म हुआ, यहीं इतिहास का जन्म हुआ और भारत ने ही दुनिया को महान व्यक्तितियों और परंपराओं की सौगात सबसे पहले दी थी . मानव जाति को सही दिशा दिखाने वाले सभी कीमती खज़ानों का भंडार भी भारत में ही है .

अब आप सोचिए जिस देश की महानता और एकता में अनेकता वाली विशेषता का सम्मान पूरी दुनिया करती आई है..उसी देश को आज धर्म के नाम पर बांटने की साजिश क्यों हो रही है .

जिस देश ने दुनिया.. के सभी शोषित, सताए गए और अपने देशों से भगाए गए शरणार्थियों को हमेशा पनाह दी. उस देश के मुसलमानों को आखिर एक कानून से क्या खतरा हो सकता है ? लेकिन आज भारत की छवि एक ऐसे देश की बनाई जा रही है जहां अल्पसंख्यक सुरक्षित नहीं है..लेकिन आज हम इसी झूठे एजेंडे का पर्दाफाश कर रहे हैं.