close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

क्या आज गिर जाएगी कर्नाटक की कुमारस्वामी सरकार? फिलहाल BJP की यह है रणनीति

कर्नाटक में सत्तारूढ़ गठबंधन सरकार से दो निर्दलीय विधायकों द्वारा समर्थन वापस लेने के एक दिन बाद अब तक साफ तस्वीर साफ नहीं हो पाई.

क्या आज गिर जाएगी कर्नाटक की कुमारस्वामी सरकार? फिलहाल BJP की यह है रणनीति
कुमारस्वामी ने विश्वास जताया कि मौजूदा संकट जल्दी ही टल जाएगा.

नई दिल्ली: कर्नाटक में सत्तारूढ़ गठबंधन सरकार से दो निर्दलीय विधायकों द्वारा समर्थन वापस लेने के एक दिन बाद अब तक साफ तस्वीर साफ नहीं हो पाई. सबसे जेहन में एक ही सवाल है कि क्या गुरुवार 17 जनवरी को कुमारस्वामी सरकार गिर जाएगी. कुमारस्वामी ने खुद कहा था कि कर्नाटक के स्थानीय मीडिया में कुछ इस तरह की खबर चल रही है. इस बीच, मीडिया की खबरों के मुताबिक कुमारस्वामी सरकर के लिए राहत की खबर आ रही है. मुंबई में ठहरे कांग्रेस के चार असंतुष्ट विधायकों में से एक ने पार्टी का साथ नहीं छोड़ने का फैसला किया है. हालांकि, जारकीहोली और कुछ अन्य विधायक मुंबई के एक होटल में हैं. 
 
इसी बीच, कांग्रेस महासचिव के. सी. वेणुगोपाल ने बुधवार को कहा कि उनकी पार्टी से एक भी नेता अलग होने वाला नहीं है. उन्होंने कहा कि स्पष्ट तस्वीर कल उभरेगी. उन्होंने बताया, "एक भी विधायक कांग्रेस छोड़ने नहीं जा रहा है. मैंने अपने विधायकों से संपर्क किया है और इसलिए मैं आपसे पूरे विश्वास के साथ कह रहा हूं. वास्तव में बृहस्पतिवार की शाम तक कर्नाटक के बारे में तस्वीर स्पष्ट होगी."  

वेणुगोपाल मीडिया में आई एक खबर पर जवाब दे रहे थे कि रमेश जारकीहोली के नेतृत्व में कांग्रेस के कुछ विधायक पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल होने की योजना बना रहे हैं ताकि कुमारस्वामी की सरकार को गिराया जा सके. जारकीहोली को पिछले महीने कैबिनेट से हटा दिया गया था. खबर है कि उन्हें भाजपा के शीर्ष नेताओं के साथ देखा गया और वे अक्सर कैबिनेट और पार्टी की बैठकों से नदारद रहे. परिणामस्वरूप उनका मंत्रालय उनके भाई सतीश जारकीहोली को सौंप दिया गया.

जल्दी समाप्त हो जाएगा गतिरोध : कुमारस्वामी
कर्नाटक में राजनीतिक उथल-पुथल के बीच मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने बुधवार को विश्वास जताया कि मौजूदा संकट जल्दी ही टल जाएगा. साथ ही उन्होंने विपक्षी दल भाजपा कर सरकार को अस्थिर करने के लिए ‘परेशानियां’ पैदा करने का भी आरोप लगाया. बेंगलुरू में बजट बनाने में व्यस्त मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात और कैबिनेट से कांग्रेस के चार मंत्रियों के इस्तीफे की संभावनाओं की खबरों से भी इनकार किया. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि कांग्रेस-जेडीएस के संबंध मजबूत हैं और 2019 लोकसभा चुनाव दोनों साथ मिलकर लड़ेंगे. 

भाजपा पर कर्नाटक सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगाते हुए जेडीएस नेता ने सवाल किया कि आखिरकार भगवा पार्टी अपने 104 विधायकों को गुड़गांव के रिसॉर्ट में क्यों रखे हुए है. वह भी ऐसे वक्त में जब कर्नाटक के 165 ताल्लुका गंभीर सूखे की स्थिति का सामना कर रहे हैं.

बीजेपी की रणनीति
बीजेपी फूंक-फंककर कदम उठा रही है. लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी कोई भी ऐसा कार्य नहीं करना चाहती जिसका गलत संदेश जाए. सूत्रों का कहना है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता कांग्रेस के असंतुष्ट विधायकों के घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए हैं. पार्टी किसी भी तरह से अगुआकार नहीं बनना चाहती. कांग्रेस विधायकों के इस्तीफा देने के बाद ही पार्टी सोच-विचारकर आगे कदम उठाएगी. कर्नाटक के बीजेपी विधायक पार्टी के शीर्ष नेताओं से कर्नाटक लौटने की हरी झंडी मिलने तक गुरूग्राम में ही रुकेंगे