International Yoga Day: लाख बीमारियों की एक दवा है 'सूर्य नमस्कार', 15 मिनट में सारे दर्द गायब...
Advertisement

International Yoga Day: लाख बीमारियों की एक दवा है 'सूर्य नमस्कार', 15 मिनट में सारे दर्द गायब...

सूर्य नमस्कार एक ऐसी योग मुद्रा है जिसमें 15 मिनट में आपके शरीर की पूरी एक्सरसाइज हो जाती है और आपको मानसिक शांति भी मिलती है. आइए योगा एक्‍सपर्ट से जानें इसके फायदे और नुकसान... 

सूर्य नमस्कार (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: योग मन और शरीर दोनों को शुद्ध और शक्तिशाली बनाने का काम करना है. 21 जून इंटरनेशनल योगा डे पर एक नई ऊर्जा और स्फूर्ति के साथ खुद के लिए लें हेल्दी संकल्प. अपने बिजी शेड्यूल से टाइम निकाल कर योगा डे पर अपनी बॉडी के लिए करें एक पॉजिटिव शुरुआत. वैसे तो योग में शरीर के हर दर्द और बीमारी को क्योर करने का दम है लेकिन व्यस्त दिनचर्या की वजह से आजकल कोई भी अपने लिए पर्याप्त समय नहीं निकाल पा रहा है. लेकिन अगर एक ही योग आसान से आपको कई फल एक साथ मिल जाएं तो दिन में रोज 15 मिनट निकलना मुश्किल काम नहीं है. 

सूर्य नमस्कार एक ऐसी योग मुद्रा है जिसमें 15 मिनट में आपके शरीर की पूरी एक्सरसाइज हो जाती है और आपको मानसिक शांति भी मिलती है. आइए योगा एक्‍सपर्ट से जानें इसके फायदे और नुकसान... 

रोजाना सिर्फ कुछ मिनट करें योग के यह आसन, दिमाग और दिल होगा दुरुस्त

सूर्य नमस्कार करने के फायदे 
सूर्य नमस्कार शरीर के ज्यादा वजन को कम करके शरीर को लचीला बनाता है. पेट की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और उससे पाचन शक्ति बढ़ती है. दिमाग को शांत करता है और आलस्य को दूर भगाता है. इस व्‍यायाम को करने से शरीर में खून का प्रवाह तेज हो जाता है जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में सहायक होता है. अगर आप बालों की समस्‍या से ग्रसित हैं तो यह योगा अभ्‍यास आपके बालों को असमय सफेद होने, झड़ने व रूसी से बचाता है. अगर आपको गुस्‍सा बहुत जल्‍दी आता है तो यह योग आपको इसे कंट्रोल में रखने की शक्ति भी प्रदान करता है. शरीर को प्राकृतिक रूप से विटामिन डी मिलता है जो हड्डियों को मजबूत करने और आंखों की रोशनी बढ़ाने में फायदेमंद होता है. यह योग त्‍वचा के रोग खत्‍म करने में भी मददगार साबित होता है. 

fallback

Yoga Day 2019: जल की सतह पर सालों से योगासन कर रहा है यह व्यक्ति, देखें PICS

सूर्य नमस्कार करते समय दें इन बातों का ध्‍यान
सूर्य नमस्कार पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके ही करना चाहिए. सूर्य नमस्कार करते समय शरीर की प्रत्येक क्रिया को ध्यानपूर्वक व आराम से करना चाहिए. सूर्य नमस्कार की तीसरी व पांचवीं स्थितियां सर्वाइकल एवं स्लिप डिस्क वाले रोगियों के लिए वर्जित हैं. अगर आप किसी गंभीर बीमारी से पीडि़त हैं तो एक आर अपने डॉक्‍टर से कंसल्‍ट जरूर कर लें. इस योग अभ्‍यास को शुरू करने से पहले योगा एक्‍सपर्ट की राय जरूर लें. 

 

Trending news