नींद आने पर भी हम क्‍यों टालते हैं? इस 'बदले' की भावना के कारण करते हैं ऐसा
X

नींद आने पर भी हम क्‍यों टालते हैं? इस 'बदले' की भावना के कारण करते हैं ऐसा

लोगों के अक्सर थके होने पर भी रात में पर्याप्त नींद (Sleep Disorder) नहीं मिल पाती. उनके ऐसा करने की असली वजह अब सामने आ गई है.

नींद आने पर भी हम क्‍यों टालते हैं? इस 'बदले' की भावना के कारण करते हैं ऐसा

लंदन: कई बार आप थके होते हैं. इसके बावजूद आप रात में सोने से पहले मोबाइल फोन, टीवी या दूसरी चीजें देखने में लगे रहते हैं, जिसके चलते आपको रात में पर्याप्त नींद (Sleep Disorder) नहीं मिल पाती. स्लीप फाउंडेशन का कहना है कि लोगों की यह आदत सही नहीं है. अगर नींद के बावजूद देर से सोने की आदत पड़ जाए तो इससे उन्हें टेंशन, डिप्रेशन और ब्लड प्रेशर की स्थाई बीमारी हो सकती है. जिसका असर पूरे परिवार पर पड़ता है. रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा करने की बड़ी वजह ये निकलकर आई है कि लोग बाहरी तनावों से घिरे होते हैं और उन तनावों से बदला लेने के लिए वे रात में रिलेक्स होने के लिए फोन या दूसरी चीजों से चिपक जाते हैं. जिससे उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती.

'बदले' की भावना

डेली मेल के रिपोर्ट के मुताबिक एक स्टडी में पाया गया कि लोग थके होने के बावजूद अक्सर सोने (Sleep Problem) के समय में देरी करते हैं. रिसर्च में यह भी पता चला कि काम के लंबे घंटों के बाद लोग रात में जब घर पहुंचते हैं तो अक्सर रिलेक्स होने के लिए सोशल मीडिया, टीवी या किताब पढ़ने लग जाते हैं. वे जानते हैं कि उनका शरीर थका हुआ और उन्हें सोने की जरूरत है. इसके बावजूद वे बेड पर नहीं जाते.

हो जाती हैं कई तरह की बीमारियां

इसका नतीजा यह होता है कि उन्हें सोने के लिए समय कम मिल पाता है. रात को देर से सोना (Sleep Problem) और सुबह ऑफिस जाने के लिए जल्दी उठने की हड़बड़ी सेहत के लिए अच्छी नहीं होती. खासकर दीर्घकाल में यह शरीर के लिए बड़ी बीमारी के रूप में सामने आती है. इससे मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर गंभीर परिणाम होते हैं. 

नींद में देरी की ये वजह आईं सामने

स्लीप फाउंडेशन के मुताबिक थके होने के बावजूद देरी से नींद (Sleep Problem) लेने के 3 कारण सामने आए हैं. इनमें सेहत के प्रति जागरुकता की कमी, देर रात को सोशल मीडिया पर एक्टिव होने की आदत डालना और अनावश्यक रूप से रात में टहलना जैसी कई वजह सामने आईं.  

ये भी पढ़ें- Shampoo: हफ्ते में कितनी बार करना चाहिए शैंपू? बालों की डिमांड का ऐसे रखें ख्‍याल

रोजाना रात में 7-8 घंटे की नींद जरूरी

एक्सपर्ट का कहना है कि फिट रहने के लिए रात में 7-8 की पर्याप्त नींद लेना बहुत जरूरी है. अगर आप रूटीन में इतनी नींद नहीं ले पा रहे हैं तो इसका मतलब आप बीमारियों को सीधा न्योता दे रहे हैं. अगर आप बीमारी और रात में अनिद्रा (Sleep Disorder) से बचना चाहते हैं तो आपको कुछ टिप्स का पालन करना चाहिए:- 
- आप दोपहर या देर शाम के शराब या कैफीन के इस्तेमाल से परहेज करें. 
- नियमित रूप से योग ध्यान करने की आदत डालें. इससे जल्द नींद आने में मदद मिलती है. 
- अपने सोने और उठने का समय तय करें और कोशिश करें कि नियत समय तक बेड पर पहुंच जाया करें. 
- अगर आप सोशल मीडिया पर सर्फिंग करने या किताब पढ़ने के शौकीन हैं तो उस काम को शाम को करें.
- अपने दिनभर के कामकाज की बेहतर प्लानिंग करना शुरू करें, जिससे आप टेंशन फ्री रह सकें.
- अगर इन टिप्स के बावजूद आपको समय से रात को नींद न आए तो किसी मेडिकल एक्सपर्ट से बात करें. 

LIVE TV

Trending news