close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव: अशोक गहलोत ने योगी पर साधा निशाना, कहा- 'दर्ज हो देशद्रोह का मुकदमा'

गहलोत ने कहा है कि हमारे देश में 70 साल में सेना का राजनीतिक फायदा कभी नहीं उठाया गया, लेकिन यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने देश की सेना को मोदी की सेना बताकर देश का अपमान किया है. 

लोकसभा चुनाव: अशोक गहलोत ने योगी पर साधा निशाना, कहा- 'दर्ज हो देशद्रोह का मुकदमा'
गहलोत ने मोदी और बीजेपी पर अफवाहें फैलाने का आरोप लगाया. (फाइल फोटो)

जयपुर: 2019 के लोकसभा चुनाव के महासंग्राम में सेना का राजनीतिकरण तेजी से आगे बढ़ रहा है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने देश की सेना को मोदी की सेना बताया, जिसके बाद कांग्रेस ने योगी के बयान पर सवाल उठाना शुरू कर दिया है. राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने योगी आदित्यनाथ पर बडा हमला बोला है.

गहलोत ने कहा है कि हमारे देश में 70 साल में सेना का राजनीतिक फायदा कभी नहीं उठाया गया, लेकिन यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने देश की सेना को मोदी की सेना बताकर देश का अपमान किया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज होना चाहिए. उन्होंने कहा, ''कांग्रेस शासन के 70 साल में आज तक सेना का राजनीतिकरण नहीं हुआ, लेकिन मोदी राज में पहली बार सेना का राजनीतिकरण किया जा रहा है.'' 

मोदी के बयान पर जताया एतराज
मोदी की सेना के बयान पर ऐतराज जताते हुए गहलोत ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वायपेयी ने पाकिस्तान-बाग्लांदेश मसले पर इंदिरा गांधी जी को दुर्गा का रूप कहा था, लेकिन आज तक हमने इसका कोई राजनैतिक फायदा नहीं उठाया.

पीएम पर कसा तंज
सीएम गहलोत ने मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि मोदी एंड टीम सोशल मीडिया पर लगातार कई तरह की अफवाह फैला रही है, इसलिए मै राजस्थान का मुख्यमंत्री होने के नाते युवाओं को आगाह करना चाहता हूं कि वे इनके झूठ के चंगुल में ना फंसे. पंडित नेहरू जी के बारे में भी पता नहीं क्या क्या झूठ फैलाया जा रहा है. जिस कारण देश का लोकतंत्र और संविधान पूरी तरह से खतरे में है.

मोदी ने किए कोरे वादें
उन्होंने यह भी कहा, ''पीएम मोदी लगातार अपनी योजनाओं का गुणगान कर रहे है, लेकिन उनको लोगों को ये बताना चाहिए कि इन योजनाओं का कितना फायदा आम जनता तक पहुंचा है. देश में रोजगार पूरी तरह से खत्म हो चुका है. देश के सामने चिंता का विषय पैदा हो गया है. नोटबंदी में लोगों को लाइनों में खड़ा करवाया. पूरे देश में 300 से अधिक लोगों की मौत हो गई, उन्हें कोई पूछने वाला नहीं है. ब्लैकमनी पीछे के गेट से वाइट होती गई. नक्सलवाद, आतंकवाद आज भी इस देश में कायम है.''