बस्तरः अति-संवेदनशील नक्सल क्षेत्र में मतदान कराने 3 दिन पहले ही हेलीकॉप्टर से रवाना हुआ दल
topStorieshindi

बस्तरः अति-संवेदनशील नक्सल क्षेत्र में मतदान कराने 3 दिन पहले ही हेलीकॉप्टर से रवाना हुआ दल

शांतिपूर्ण मतदान और सकुशल मतदान दलों के वापसी के लिए बाकायदा हेलिपैड पर पूजा-अर्चना भी की गई. सभी 22 दल वहां जाकर तीन दिन तक पुलिस कैंपो में रहेंगे और फिर 11 अप्रैल को मतदान कराएंगे.

बस्तरः अति-संवेदनशील नक्सल क्षेत्र में मतदान कराने 3 दिन पहले ही हेलीकॉप्टर से रवाना हुआ दल

बस्तरः छत्तीसगढ़ के बस्तर लोकसभा सीट के लिए 11 अप्रैल को मतदान होना है, लेकिन नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने के कारण सुकमा जिले में मतदान दल को रवाना करने का सिलसिला तीन दिन पहले ही शुरू हो गया है. कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी चंदन कुमार, एसपी डीएस मरावी और एएसपी नक्सल ऑपरेशन शुलभ सिन्हा की मौजूदगी में आज सुबह 7 बजे अति-संवेदनशील अंदरूनी क्षेत्रों में मतदान कराने के लिए 22 मतदान दल को हेलीकॉप्टर से रवाना किया गया है. शांतिपूर्ण मतदान और सकुशल मतदान दलों के वापसी के लिए बाकायदा हेलिपैड पर पूजा-अर्चना भी की गई. सभी 22 दल वहां जाकर तीन दिन तक पुलिस कैंपो में रहेंगे और फिर 11 अप्रैल को मतदान कराएंगे.

लोकसभा चुनाव 2019: नक्सली गलियारों में भाजपा को क्षेत्रीय दलों की चुनौती, कांग्रेस भी दे रही टक्कर

नक्सल क्षेत्र होने के कारण कुल 40 मतदान दल को चॉपर से ही भेजा जाएगा. बता दें सुकमा जिला घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र माना जाता है और यहां पिछले महीने भर से नक्सली लोकसभा चुनाव के बहिष्कार करने की बात कहकर जगह-जगह बैनर-पोस्टर लगाते आ रहे हैं. लगातार ऐसी खबर भी आ रही है कि जिले में नक्सलियों के नए चेहरे देखे जा रहे हैं. आशंका है ऐसे में नक्सली चुनाव में व्यवधान उत्पन्न कर सकते हैं. इसलिए सुरक्षाबल पूरी सतर्कता बरत रहे हैं. 

 

लोकसभा चुनाव 2019: नक्सल प्रभावित बस्तर में रैली को संबोधित करेंगे शिवराज सिंह चौहान

कोंटा ब्लॉक के नक्सल प्रभावित क्षेत्र में तीन दिन पहले आज सोमवार को मतदान दल हेलीकाप्टर से रवाना किया गया. सुबह 4 बजे से ही पॉलिटेक्निक कॉलेज में कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी चंदन कुमार की मौजूदगी में मतदान दलों को ईवीएम व अन्य सामाग्री वितरित की गई. उसके बाद बस से सभी मतदान दलों को बस से हेलिपैड लाया गया. 22 मतदान दल में करीब 100 मतदान कर्मी मौजूद हैं जो अंदरूनी इलाके में 11 अप्रैल को मतदान सम्पन्न कराएंगे.

लाल आतंक का जवाब क्रिकेट से, आजादी के बाद नक्सलगढ़ में पहली बार फ्लड लाइट मैच

जिला निर्वाचन ने सभी आवश्यक तैयारी पूर्ण कर ली है. आज अंदरूनी क्षेत्र में हेलीकॉप्टर की मदद से 22 मतदान दलों को रवाना किया जा रहा हैं. सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं, पूरा विश्वास है कि चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन होगा. नक्सली विरोध को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए. लगातार ऑपरेशन करके इलाके की सर्चिंग की जा रही है.

Trending news