close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

साध्वी प्रज्ञा ने गोडसे को बताया राष्ट्रभक्त, CM नीतीश बोले- 'ऐसे बयान कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे'

नीतीश कुमार ने कहा, 'गोडसे को राष्ट्रभक्त कहना निंदनीय है. उनके खिलाफ क्या एक्शन होना चाहिए यह उनकी पार्टी का आंतरिक मामला है. मैं इतना जरूर कहूंगा कि ऐसे बयान को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए.'

साध्वी प्रज्ञा ने गोडसे को बताया राष्ट्रभक्त, CM नीतीश बोले- 'ऐसे बयान कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे'
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साध्वी प्रज्ञा के बयान की निंदा की है.

पटना: मध्य प्रदेश के भोपाल लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह के नाथूराम गोडसे को राष्ट्रभक्त बताने वाले बयान पर बीजेपी की सहयोगी जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) ने निंदा की है. रविवार को वोट डालने पहुंचे बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कहा कि साध्वी प्रज्ञा का बयान निंदनीय है. नीतीश कुमार ने कहा, 'गोडसे को राष्ट्रभक्त कहना निंदनीय है. उनके खिलाफ क्या एक्शन होना चाहिए यह उनकी पार्टी का आंतरिक मामला है. मैं इतना जरूर कहूंगा कि ऐसे बयान को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए.'

इससे पहले नीतीश कुमार ने वोट डालने के बाद लंबे चुनाव कार्यक्रम पर सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि इतनी गर्मी में इतना लंबा चुनाव कार्यक्रम ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दलों को बैठक करके इसपर विचार करना चाहिए. साथ ही चुनाव आयोग से भी अनुरोध किया जाना चाहिए कि चुनाव कार्यक्रम इतने लंबे नहीं रखे जाएं.

प्रज्ञा ने गोडसे को देशभक्त बताया, बाद में मांगी माफी
भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की प्रत्याशी एवं मालेगांव विस्फोट की आरोपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे को को ‘देशभक्त’ बता कर नया विवाद खड़ा कर दिया. ठाकुर के इस बयान पर कांग्रेस एवं विपक्ष ने आक्रोशित होते हुए आरोप लगाया कि, 'शहीदों का अपना करना भाजपा के डीएनए में है.' हालांकि भाजपा ने भी प्रज्ञा की इस टिप्पणी की निंदा की. 

मध्यप्रदेश के आगर मालवा में रोडशो में शामिल हुईं विवादित नेता ने कहा, ‘नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे. गोडसे को आतंकवादी बोलने वाले खुद के गिरेबान में झांक कर देखें. अबकी बार चुनाव में ऐसा बोलने वालों को करारा जवाब दिया जाएगा.’ वह अभिनेता-नेता कमल हासन की गोडसे को देश का ‘पहला हिन्दू चरमपंथी’ कहने वाली टिप्पणी को लेकर पूछे गए प्रश्न का उत्तर दे रहीं थीं.

प्रज्ञा के इस बयान की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी निंदा कर चुके हैं. पीएम मोदी ने कहा है कि साध्वी प्रज्ञा ने गोडसे वाले बयान पर भले ही माफी मांग ली है, लेकिन वे उन्हें मन से कभी भी माफ नहीं कर पाएंगे.

गोडसे की प्रशंसा पर बीजेपी नेता निलंबित
उधर, कर्नाटक बीजेपी ने अपनी तुमकुर जिला युवा इकाई के अध्यक्ष को सोशल मीडिया पर नाथूराम गोडसे की प्रशंसा में पोस्ट करने के लिए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया. निलंबन के आदेश पर प्रदेश भाजपा के प्रमुख बी एस येदियुरप्पा के हस्ताक्षर है. यह पत्र टी एच हनुमंतराजू के नाम संबोधित है. इसमें लिखा गया है, ‘सोशल मीडिया पर नाथूराम गोडसे की प्रशंसा वाली पोस्ट के कारण आपको युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष पद से हटाया जा रहा है और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित किया जा रहा है.’

गोडसे संबंधी टिप्पणी के लिये कारण बताओ नोटिस
भाजपा ने भोपाल से लोकसभा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर समेत तीन पार्टी नेताओं को महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे संबंधी टिप्पणी के लिये कारण बताओ नोटिस जारी किया . भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि इन नेताओं के खिलाफ ‘उपयुक्त कार्रवाई’ की जायेगी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बगल में बैठे अमित शाह ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में संवाददाताओं से कहा कि पूरी भाजपा ‘‘इनकी टिप्पणी के लिये खेद प्रकट करती है.’ 

उन्होंने कहा कि पार्टी की अनुशासन समिति ने उन्हें नोटिस जारी किया है और उन्हें जवाब देने के लिये 10 दिनों का समय दिया गया है. शाह ने कहा, ‘इसके बाद हम तत्काल उपयुक्त कदम के बारे में निर्णय करेंगे.'