मोदी के मंत्री ने माना, यूपी में गठबंधन एक मजबूत राजनीति ताकत है

मनोज सिन्हा ने कांग्रेस के घोषणा पत्र में न्याय योजना पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने प्रियंका गांधी वाड्रा के यूपी में प्रचार करने को लेकर भी अपनी बात रखी है.

मोदी के मंत्री ने माना, यूपी में गठबंधन एक मजबूत राजनीति ताकत है
फाइल फोटो

नई दिल्लीः केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा ने ज़ी न्यूज़ से एक्सक्लूसिव बातचीत में माना की लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में सपा, बसपा और रालोद के मिलने से उत्तर प्रदेश में एक मज़बूत राजनीतिक ताकत बनी है. हालांकि उन्होंने ये भी कहा की मोदी जी का गठबंधन जनता से है इसलिए इससे अंतर को समझने की ज़रूरत है. 

पिछली बार मोदी लहर थी, इस बार सुनामी है
मनोज सिन्हा ने दावा किया कि पिछली बार लहर थी लेकिन इस बार मोदी जी के नाम की सूनामी है. प्रियंका गांधी के प्रचार पर मनोज सिन्हा ने कहा की प्रियंका गांधी जी को मेरी शुभकामना है, मुझे लगता है कि अभी से अगर प्रियंका जी लगी रहेगी तो 2024 में कांग्रेस की मौजूदगी दिखाई देगी उत्तर प्रदेश में. पूर्वी उत्तर प्रदेश में मतदाता और जनता कांग्रेस को नोटिस ही नहीं कर रही है. 

न्याय योजना को कोई गंभीरता से नहीं लेगा 
कांग्रेस के घोषणा पत्र पर निशाना साधते हुए मनोज सिन्हा ने कहा की कांग्रेस 1971 से गरीबी हटा रही है. जब सत्ता में रहते है तो उन्हें गरीबों की याद नही आती है, जब सत्ता से बाहर हो जाते है तो इस तरह के झूठे वादे करते है, इसलिए न्यूनतम आय को लेकर उनकी घोषणा को भी लोग गंभीरता से नहीं लेगा. 

यह भी पढ़ेंः मनोज सिन्हा ने CM योगी से की गुजारिश, मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन का नाम बनारस रखा जाए

शहीदों के अपमान के लिए देश नहीं करेगा माफ
मनोज सिन्हा ने दावा किया की जिन लोगो ने सबूत मांगकर शहीदों के बलिदान का अपमान किया है मतदान के दिन जनता इनका हिसाब चुकता करेगी. गाज़ीपुर से सांसद मनोज सिन्हा इस बार फिर गाज़ीपुर सीट से चुनाव मैदान में हैं. 

काम के दम पर ही जाति को तोड़ा जा सकता है
मनोज सिन्हा ने कहा की मुम्बई-पुणे, हैदराबाद-सिकंदराबाद की तर्ज़ पर बनारस- गाज़ीपुर को भी ट्विन सिटी मॉडल के रूप में विकसित किया जाएगा. 1962 से गाज़ीपुर इंतज़ार कर रहा था लेकिन मोदी जी की सरकार के आने के बाद हुआ गाज़ीपुर में गंगा नदी पर रेल और रोड ब्रिज का निर्माण शुरू हो पाया है. गाज़ीपुर का चुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ा जाएगा, जाति की दीवारे टूट रही है. काम ही एक विकल्प है जिसके ज़रिये जाति को तोड़ा जा सकता है.