close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: कांग्रेस MLA का मतदान से पहले बड़ा बयान, कहा- 'महागठबंधन का मकसद पूरा नहीं हुआ'

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता विधायक अवधेश सिंह ने बिहार में महागठबंधन के मकसद को असफल करार दे दिया है. 

बिहार: कांग्रेस MLA का मतदान से पहले बड़ा बयान, कहा- 'महागठबंधन का मकसद पूरा नहीं हुआ'
बिहार कांग्रेस के एमएलए ने चौंकाने वाला बयान दिया है.

पटना: लोकसभा चुनाव के रिजल्ट में अभी एक दिन का समय रह गया है लेकिन महागठबंधन में रिजल्ट से पहले ही बवाल मच गया है. कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता विधायक अवधेश सिंह ने बिहार में महागठबंधन के मकसद को असफल करार दे दिया है. अवधेश सिंह ने कहा है कि जिस मकसद से महागठबंधन बना था वो मकसद पूरा नहीं हो सका. कांग्रेस नेता ने तो यह कहकर पार्टी की मुश्किलें बढा दी हैं कि वो बिहार में कांग्रेस के परफार्मेन्स से खुश नहीं हैं. 

चुनाव परिणाम से पहले और एक्टजिट पोल के नतीजों से ही बिहार के महागठबंधन में बवाल मच गया है. कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता विधायक अवधेश सिंह महागठबंधन के परफार्मेन्स से खुश नही हैं. अवधेश सिंह ने कहा है कि महागठबंधन का निर्माण जिस मकसद से किया गया था गठबंधन उस मकसद को साधने में विफल रहा है. हलांकि अवधेश सिंह ने बिहार में महागठबंधन के मजबूती से टिके रहने की बात जरूर कही है. लेकिन वो इस गठबंधन के प्रभाव से संतुष्ट नहीं हैं. अवधेश सिंह ने जी मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि महागठबंधन जिस मकसद के लिए बना था वो उसमें कामयाब नहीं हो सका है.  

 

कांग्रेस नेता यहीं नहीं रुके उन्होंने चुनाव में कांग्रेस के परफार्मेन्स पर भी सवाल खडे कर दिये हैं. अवधेश सिंह खुद मानते हैं कि कांग्रेस के परफार्मेन्स से वो संतुष्ट नहीं हैं. कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेसी कार्यकर्ता भी उत्साह और लगन के साथ अपने घरों से बाहर नहीं निकले. इसके पीछे की वजह थी उनकी उपेक्षा. अवधेश सिंह ने खुद माना कि पार्टी ने उन्हें भी चुनाव में किसी भी जिम्मेदारी से दूर रखा. हालांकि अवधेश सिंह ने इतना जरूर कहा कि बिहार के बाहर यूपी में अजय सिंह और मध्यप्रदेश में दिग्विजय सिंह के चुनाव प्रचार अभियान में वो शामिल हुए. लेकिन अपने ही घर में उनकी पूछ नहीं रही. उपेन्द्र कुशवाहा ने केवल उनसे चुनाव प्रचार की अपील की थी जहां उन्होंने ने मेहनत की और गया में राहुल गांधी के कार्यक्रम को लेकर उन्हें भरपूर मेहनत की.     

कांग्रेस नेता अवधेश सिंह औरंगाबाद सीट कांग्रेस को नहीं मिलने से भी खासे नाराज दिखे. अवधेश सिंह ने कहा कि किस साजिश के तहत औरंगाबाद सीट कांग्रेस के खाते में नहीं आई, ये समझ में नहीं आ रहा. लेकिन पारंपरिक कांग्रेस की सीट का कांग्रेस के हाथों से निकल जाना भी एक खराब संदेश छोड़ गया. रिजल्ट के बाद पार्टी के कार्यकर्ता और नेता इसपर गहन चिंतन मंथन करेंगे. 

इधर अवधेश सिंह के बयान ने बिहार के सियासी गलियारे में भूचाल ला दिया है.  अवधेश सिंह के बयान पर जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि अवधेश बाबू कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं और वो सच्चाई बयां कर रहे हैं.आरजेडी के दवाब में कांग्रेस को शकील अहमद , कीर्ति आजाद, निखिल कुमार जैसे नेताओं की उपेक्षा करनी पड़ी. तेजश्वी यादव के नौसिखियेपन का खामियाजा कांग्रेस को भुगतना पड़ा. हमें पहले से इस बात का अनुमान था. ये तो बिखराव की अभी शुरुआत है. चुनाव परिणाम के बाद महागठबंधन में भगदड़ मच जाएगी. 

बीजेपी ने भी कांग्रेस नेता के बयान पर महागठबंधन पर हमला बोला है. बीजेपी प्रवक्ता संजय टाइगर ने कहा है कि  महमिलावट में बिखराव शुरू हो चुका है. हमने पहले ही कहा था ये झूठा महागठबंधन है. अब सच सामने आ रहा है.  

इधर, आरजेडी ने कांग्रेस नेता अवधेश सिंह के आरोपो को खारिज कर दिया है. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानन्द तिवारी  ने कहा है कि महागठबंधन अपने मकसद में कामयाब रहा है.  कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने  भी अच्छा सपोर्ट किया है. अवधेश सिंह काराकाट से चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन नही लड़ सके. महागठबंधन में किसी तरह की कोई परेशानी नही रही है. आगे परिणाम महागठबंधन के ही पक्ष में आएगा.