'लोगों को भ्रमित करने और झूठे चुनावी वादे करने में मोदी जी को महारथ हासिल है': आनंद शर्मा

'' प्रधानमंत्री के साथ उनके जहाज मे क्या लेकर जा रहे हैं इसकी चुनाव आयोग पड़ताल करे. पहली बार ऐसा देखा है कि चुनाव आयोग को सरकार के राजस्व सचिव और सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस के चेयरमैन को तलब करके कहना पड़ रहा है कि निष्पक्षता होनी चाहिए''

'लोगों को भ्रमित करने और झूठे चुनावी वादे करने में मोदी जी को महारथ हासिल है': आनंद शर्मा
वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बीजेपी पर निशाना साधा है, जिसमें उन्होंने कर्नाटक के चित्रदुर्ग में शनिवार को पीएम मोदी के हेलीकॉप्टर से उतार गए बक्सों के बारे में सवाल किया है. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि 'मौजूदा चुनाव मे सरकारी तंत्र का दुरूपयोग किया जा रहा है. अधिकारी उल्टा चुनाव आयोग को डांट रहे हैं, इस पीएम की महारथ है लोगों को भ्रमित करना, झूठा प्रचार करना, इसमें उनको महारथ हासिल है. मोदी जी का मुद्दों से भटकना और ध्यान भटकाने में महारथ हासिल है. देश का नौजवान और दलित लगातार सवाल कर रहे हैं कि आपने इन पांच सालों में क्या किया है. पिछले पांच साल मे दलितों और शोषितों के साथ काफी अन्याय किया गया है.''

भूपेन्दर सिंह हुड्डा के आवास पर छापेमारी के बाद तिलमिलाई कांग्रेस

उन्होंने आगे कहा कि ''मॉब लिंचिग की घटना से देश का नाम विदेशों मे झुका है. मोदी जी जवाबदेही से बचते हैं. मोदी की करनी और कथनी में अंतर है. मोदी तथ्य, तस्वीर और तारीख से भागते हैं. राफेल पर पीएम का मौनव्रत कब टूटेगा. राहुल जी ने उन्हें बहस की चुनौती दी है, वो राफेल पर संसद मे कुछ नहीं बोलते. ओलांद के सवाल पर वो कुछ नही बोलते हैं. दोनों सरकारों के मिनट टू मिनट हुई बातचीत को सार्वजनिक किया जाये, मगर उसे नहीं किया जाता है. मोदी जी असली मुददों पर बात करें. किसानों, नौजवानों और दलित उत्पीडन पर बात करें. 23 मई के बाद वो एक एकेडमी बना सकते हैं, जिसमें वो लोगों को बता सकें कि लोगों को चुनाव मे कैसे ठगा जाए.'' 

प्रधानमंत्री को है बस एक सलाह ! कांग्रेस के नेताओं को कोसना करें बंद- आनंद शर्मा

बीजेपी पर निशाना साधते हुए आनंद शर्मा ने आगे कहा कि ''बीजेपी के पास प्रंचण चुनाव तंत्र है. बीजेपी जो चुनाव प्रचार में इतने पैसे खर्च कर रही है, वह कहां से आए. कर्नाटक के चित्रदुर्ग में शनिवार को मोदी जी के प्लेन और हैलीकॉप्टर से जो बक्से निकले वह कहां गए. ये हैलीकॉप्टर कहां से आ रहे हैं, इन्हें कौन इस्तेमाल कर रहा है? चुनाव के दौरान देश के प्रधानमंत्री की कोई जांच नही की जाती है. प्रधानमंत्री के साथ उनके जहाज मे क्या लेकर जा रहे हैं इसकी चुनाव आयोग पड़ताल करे. पहली बार ऐसा देखा है कि चुनाव आयोग को सरकार के राजस्व सचिव और सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस के चेयरमैन को तलब करके कहना पड़ रहा है कि निष्पक्षता होनी चाहिए.''