close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अगर प्रधानमंत्री मोदी पुलिस का सम्मान करते हैं तो वह प्रज्ञा का टिकट वापस लें: मिलिंद देवड़ा

अपने भाषण के दौरान, मोदी द्वारा वास्तविक मुद्दों के बजाय, भावनात्मक मुद्दों पर ध्यान दिया जाना रोजगार जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर उनकी सरकार की ''विफलता'' का एक स्पष्ट संकेत है.

अगर प्रधानमंत्री मोदी पुलिस का सम्मान करते हैं तो वह प्रज्ञा का टिकट वापस लें: मिलिंद देवड़ा
मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा (फाइल फोटो)

मुंबई: मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा ने कहा है कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाराष्ट्र पुलिस का वास्तव में सम्मान करते हैं, तो उन्हें मालेगांव विस्फोट की आरोपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की उम्मीदवारी वापस ले लेनी चाहिए, जो भोपाल लोकसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रही हैं. देवड़ा ने यह भी कहा कि शुक्रवार को मुंबई में अपने भाषण के दौरान, मोदी द्वारा वास्तविक मुद्दों के बजाय, भावनात्मक मुद्दों पर ध्यान दिया जाना रोजगार जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर उनकी सरकार की ''विफलता'' का एक स्पष्ट संकेत है.

दिग्विजय की तर्ज पर BJP प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भी जारी करेंगी 'विजन डॉक्युमेंट'

मोदी ने शुक्रवार को यहां बीकेसी मैदान में एक रैली को संबोधित किया था. मुंबई की छह सीटों और महाराष्ट्र में 11 सीटों के लिए मतदान 29 अप्रैल को होगा. अपने भाषण के दौरान, उन्होंने आरोप लगाया था कि कांग्रेस सरकारों ने पुलिस बल की उपेक्षा की और इसे ‘‘पंचिंग बैग’’ में बदल दिया. मोदी ने ऐसे समय में पुलिस की प्रशंसा की जब एक हफ्ते पहले ही आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे के बारे में प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने विवादित बयान दिया था.

साध्वी प्रज्ञा की उम्मीदवारी पर रोक की अर्जी पर NIA ने कहा- 'हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं आता मामला'

देवड़ा ने एक बयान में कहा कि मुंबईकरों को पूछना चाहिए कि प्रधानमंत्री सशस्त्र बलों और बहादुर पुलिस का अपमान करने वालों को क्यों प्रोत्साहित कर रहे हैं. देवड़ा ने कहा, ''अगर प्रधानमंत्री सही मायने में महाराष्ट्र पुलिस का सम्मान करते हैं, तो उन्हें प्रज्ञा ठाकुर का टिकट तुरंत वापस ले लेना चाहिए. शहीद हेमंत करकरे का सम्मान करने के लिए वह कम से कम ऐसा कर सकते हैं.'' उन्होंने कहा, ''मुंबईकर हमारे शहर की कुछ काली यादों पर राजनीति करने के लिए भाजपा और शिवसेना को माफ नहीं करेंगे.'' (इनपुटः भाषा)