close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : 40 लोकसभा सीट के लिए बनाए गए हैं 33 सेंटर, कुछ ही देर में शुरू होगी गिनती

बिहार के जिस सीट की पूरे चुनाव के दौरान देश में चर्चा रही है, वो बेगूसराय लोकसभा सीट है. बेगूसराय में बीजेपी ने अपनी पार्टी के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह को टिकट दिया है तो वहीं, सीपीआई ने कन्हैया कुमार को.

बिहार : 40 लोकसभा सीट के लिए बनाए गए हैं 33 सेंटर, कुछ ही देर में शुरू होगी गिनती
काउंटिंग के से पहले जश्न की तैयारी में जुटे समर्थक और कार्यकर्ता. (तस्वीर- IANS)

पटना : लोकसभा चुनाव के वोटों की गिनती कुछ ही देर में शुरू होने वाली है. बिहार के 40 लोकसभा सीटों पर भी प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होगा. सुबह आठ बजे से रुझाने आने लगेंगे. बिहार में काउंटिंग के लिए कुल 33 सेंटर बनाए गए हैं. वोटों की गिनती इसके लिए सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी), जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू), राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा), लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और हिंदुस्ताना आवाम मोर्चा (हम) के कई वीआईपी प्रत्याशियों की किश्मत दांव पर लगी है.

मतगणना के दौरान शांति बनाए रखने के लिए बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने सोशल मीडिया के जरिए लोगों से अपील की है. उन्होंने युवाओं से विशेष तौर पर शांति बनाए रखने के लिए कहा है. उन्होंने लिखा, 'वोट आम जनता ने किया है. उसने अपना प्रतिनिधि चुना है. आप किसी के बहकावे में आकर कुछ गलत नहीं करें. गलत करने पर कानून के चंगुल में फंसेंगे. सभी डीएम और एसपी को सतर्कता का निर्देश दिया गया है. असामाजिक तत्वों से कैसे निपटना है, इसके बारे में विशेष निर्देश दिए गए हैं.

बेगूसराय में गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार की लड़ाई
बिहार के जिस सीट की पूरे चुनाव के दौरान देश में चर्चा रही है, वो बेगूसराय लोकसभा सीट है. बेगूसराय में बीजेपी ने अपनी पार्टी के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह को टिकट दिया है तो वहीं, सीपीआई ने कन्हैया कुमार को. एग्जिट पोल में गिरिराज सिंह की स्थिति मजबूत है, लेकिन असल तस्वीर आज यानी 23 मई को नजर आएगी. 

पटना साहिब में शत्रुघ्न सिन्हा बनाम रविशंकर प्रसाद
बिहार का पटना साहिब लोकसभा सीट शत्रुघ्न सिन्हा का गढ़ माना जाता है. इस बार शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी को छोड़ कांग्रेस का दामन थाम लिया है. शत्रुघ्न सिन्हा पटना साहिब से हमेशा भारी मतों से जीतते आए हैं लेकिन बीजेपी ने यहां से कद्दावर नेता रविशंकर प्रसाद को टिकट दिया है. ऐसे में दोनों के बीच कांटे की टक्कर है और देखना दिलचस्प होगा कि बेहद कम वोटों के अंतर से कौन जीत दर्ज करता है, 

पाटलिपुत्र में रामकृपाल यादव बनाम मीसा भारती
पाटलिपुत्र में 2014 लोकसभा चुनाव में भी रामकृपाल यादव और मीसा भारती आमने सामने थे लेकिन रामकृपाल यादव चुनाव जीतने में सफल रहे थे. इस बार भी दोनों चुनावी मैदान में हैं और आरजेडी ने मीसा भारती के पक्ष में चुनाव प्रचार करने में कोई कमी नहीं छोड़ी है. वहीं, एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी की स्थिति मजबूत है. ऐसे में किसी भी हालत में यह कहना मुश्किल है कि किसका पलड़ा भारी है. असल तस्वीर 23 मई को लोगों के बीच होगी. 

जमुई में चिराग पासवान बनाम भूदेव चौधरी
जमुई में चिराग पासवान बनाम भूदेव चौधरी के बीच सीधी टक्कर है. 2014 में उन्होंने राजनीति में एंट्री ली और जीत दर्ज की. हर किसी की निगाहें इसी बात पर है कि क्या चिराग पासवान इस बार भी जीत दर्ज कर पाएंगे. जमुई में चिराग पासवान और भूदेव चौधरी में कांटे की टक्कर है. भूदेव चौधरी को महागठबंधन की पार्टी आरएलसपी ने टिकट दिया है. भूदेव चौधरी पहले भी सासंद रह चुके हैं और जमुई लोकसभा क्षेत्र में जाना माना चेहरा हैं. ऐसे में देखने वाली बात होगी कि जमुई की जनता ने किसे चुना है. 

मधेपुरा में शरद यादव बनाम पप्पू यादव
बिहार के कोसी इलाके का मधेपुरा लोकसभा सीट भी हाईप्रोफाइल बन चुका है. लोकतांत्रिक जनता दल के अध्यक्ष शरद यादव आरजेडी के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं, स्थानीय सांसद पप्पू यादव जन अधिकार पार्टी (जाप) के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं. 2014 के मोदी लहर में भी आरजेडी को इस सीट पर जीत मिली थी. आरजेडी उम्मीदवार पप्पू यादव ने जेडीयू के शरद यादव को 50 हजार से अधिक मतों से पराजित किया था. 

बक्सर में अश्विनी कुमार चौबे बनाम जगदानंद सिंह
बक्सर में बीजेपी के अश्विनी कुमार चौबे की सीधी लड़ाई आरजेडी के जगदानंद सिंह से है. इस चुनाव में दोनों नेताओं के बीच सीधी लड़ाई मानी जा रही है. हालांकि कौन जीतेगा कौन हारेगा यह तो रिजल्ट आने के बाद ही पता चलेगा.

सीवान में दो बाहुबलियों की पत्नी के बीच टक्कर
बिहार की सीवान लोकसभा सीट पर दो बाहुबलियों की टक्कर है. दरअसल दोनों बाहुबली मैदान में नहीं हैं बल्कि दोनों की पत्नियां चुनाव लड़ रही हैं. बाहुबली शहाबुद्दीन तो जेल में है लेकिन पत्नी हिना शहाब चुनावी मैदान में. दूसरी तरफ बाहुबली अजय सिंह की पत्नी कविता सिंह चुनाव लड़ रही हैं, जिनकी सियासी कमान पति अजय सिंह ने संभाल रखी है. सीवान के इस बाहुबली संग्राम में कौन मारेगा बाजी इस पर पूरे देश की नजर है.

मुंगेर में राजीव रंजन सिंह बनाम अनंत सिंह
मुंगेर में एक तरफ जेडीयू के कद्दावर नेता राजीव रंजन सिंह मैदान में हैं तो वहीं महागठबंधन ने अनंत सिंह की पत्नी नीलम सिंह को टिकट दिया है. ऐसे में कौन सी पार्टी जीत दर्ज करती है ये भी देखना दिलचस्प होगा.