close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

#ZeeMahaExitPoll: एबीपी-नीलसन के मुताबिक पूर्वोत्तर के राज्यों में बीजेपी को 25 में 13 सीटें

सातवें चरण का मतदान पूरा होने के साथ ही लोगों की दिलचस्‍पी सीटों के एग्जिट पोल को लेकर बढ़ गई है. पूरे देश में इस वक्‍त की सबसे बड़ी सियासी चर्चा यही है कि किस दल को कितनी सीटें मिलेंगी. 

#ZeeMahaExitPoll: एबीपी-नीलसन के मुताबिक पूर्वोत्तर के राज्यों में बीजेपी को 25 में 13 सीटें

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के सातवें और अंतिम चरण का मतदान रविवार (19 मई) को समाप्त हो गया. इस चुनाव में लोकसभा की 543 में से 542 सीटों पर मतदान के बाद चुनावी नतीजे 23 मई को आएंगे. वहीं, नतीजों से पहले एग्जिट पोल (Exit Poll Results 2019) आना शुरू हो गए हैं. शुरुआती रुझानों में एबीपी-नीलसन (ABP-Nielsen) के मुताबिक पूर्वोत्तर राज्यों के 25 सीटों में बीजेपी को 13 सीटें और कांग्रेस और अन्य को 6-6 सीटें मिलने का अनुमान जताया है.  इस बार बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में 21 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है.

अभी तक एक्जिट पोल के जो रुझान आए हैं उनके मुताबिक 2019 में एक बार फिर से मोदी सरकार बनने जा रही है. अभी तक जिन चैनलों ने 542 सीटों के रुझान पेश किए हैं, उनके आधार पर जी न्‍यूज के महा एग्जिट पोल (ZeeMahaExitPoll) के मुताबिक बीजेपी के नेतृत्‍व में एनडीए को 300 सीटें मिलने का अनुमान है. यूपीए को 128 और अन्‍य को 114 सीटें मिलने का अनुमान व्‍यक्‍त किया गया है.

टाइम्‍स नॉऊ-वीएमआर
एग्जिट पोल (EXIT POLL 2019) के रुझान में टाइम्‍स नॉऊ-वीएमआर (TIMES NOW-VMR) ने बीजेपी के नेतृत्‍व में एनडीए को स्‍पष्‍ट बहुमत मिलने का अनुमान व्‍यक्‍त किया है. इसके मुताबिक NDA को 306 सीट मिलेंगी. यूपीए को 132 और अन्‍य को 104 सीटें मिलने का अनुमान व्‍यक्‍त किया गया है. इसके मुताबिक यूपी में बीजेपी को सपा-बसपा गठबंधन के बावजूद बड़ी कामयाबी मिलेगी और राज्‍य की 80 सीटों में से 58 सीटों पर बीजेपी को कामयाबी मिलेगी. इसके मुताबिक गठबंधन को 20 सीटें मिलने का अनुमान व्‍यक्‍त किया गया है.

Zee News महा Exit Poll: अब तक के रुझानों के मुताबिक एक बार फिर मोदी सरकार 

आज तक-एक्सिस माई इंडिया
मध्‍य प्रदेश में बीजेपी को 26-28 सीटें और कांग्रेस को 1-3 सीटें मिलने का अनुमान व्‍यक्‍त किया गया है. छत्‍तीसगढ़ में बीजेपी 7-8, कांग्रेस 3-4 सीटें मिलने का अनुमान है. राजस्‍थान में बीजेपी को 23-25 सीटें जबकि कांग्रेस को 0-2 सीटें मिलने का अनुमान व्‍यक्‍त किया गया है.

रिपब्लिक भारत-सी वोटर
रिपब्लिक भारत-सी वोटर में एनडीए को 287, यूपीए को 128, महागठबंधन को 40 और अन्‍य को 87 सीटें मिलने का अनुमान है. रिपब्लिक/ जन की बात में एनडीए को 305 सीटें मिलने का अनुमान व्‍यक्‍त किया गया है. इसी तरह इसमें कांग्रेस को 124 और अन्‍य को 113 सीटें मिलने का अनुमान है.

ABP-नीलसन
इसने अभी तक 542 में से 494 सीटों के रुझान घोषित किए हैं. इसके मुताबिक एनडीए को 240 सीटें और यूपीए को 108 सीटें मिलने का अनुमान है. इसके मुताबिक अन्‍य को 146 सीटें मिलने का अनुमान है.

दरअसल, बीजेपी पूर्वोत्तर में अपनी सियासी ताकत से वाकिफ थी. पूर्वोत्तर में जमीनी स्तर पर न तो उसके कार्यकर्ता थे और न ही काडर. ऐसे में छोटे दलों के साथ और कांग्रेस के विधायकों को बीजेपी ने अपने में मिलाकर ही वह पूर्वोत्तर में पांव जमाने की रणनीति अपनाई है.

 #ZeeMahaExitPoll: यूपी में बीजेपी को बड़ा नुकसान, ABP-NEILSON सर्वे में गठबंधन को 56 सीटें

असम के जरिए बीजेपी ने पूर्वोत्तर में जीत का द्वार खुला था. 
असम के जरिए बीजेपी ने पूर्वोत्तर में जीत का द्वार खुला था. 2014 के लोकसभा चुनाव में असम की 14 संसदीय सीटों में से बीजेपी को 7 सीटें मिली. जबकि कांग्रेस को 3, बदरुद्दीन अजमल की पार्टी AIDUF को 3 और निर्दलीय को एक सीट पर जीत मिली थी. इसके बाद मई 2016 में हेमंत बिश्वा शर्मा की अगुवाई में नेडा (नार्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक एलांइस) का गठन किया गया.

नेडा में पूर्वोत्तर के कई महत्वपूर्ण गैर कांग्रेसी दलों को गठबंधन में शामिल किया गया. इसमें सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट, असम गण परिषद, नागा पीपल्स फ्रंट, संगमा की नेशनल पीपुल्स पार्टी प्रमुख हैं. बीजेपी ने अपनी रणनीति से असम की सत्ता पर लंबे समय से काबिज कांग्रेस को परास्त कर दिया.

इसके बाद बीजेपी पूर्वोत्तर में कई राज्यों की सत्ता पर काबिज होती गई. पूर्वोतर के इन छोटे दलों के गठबंधन से बीजेपी सिक्किम, असम, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर, मेघालय में अपनी सरकार चला रही है. जबकि त्रिपुरा में अपने दम पर लेफ्ट के मजबूत लाल किले को ध्वस्त कर सत्ता पर काबिज हुई. वहीं, हाल ही में हुए मिजोरम के विधानसभा चुनाव में बीजेपी का पहली बार खाता खुला है.