close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पड़ाड में भी खिला कमल, मोदी लहर में कांग्रेस के ये दिग्गज नेता भी हुए ढेर

चुनाव में खड़े हुए कांग्रेस के दिग्गज भी चुनावी मैदान में पस्त हो गए. कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में से एक हरीश रावत और प्रीतम सिंह भी अपनी जीत दर्ज कराने में सफल नहीं हो सके. 

पड़ाड में भी खिला कमल, मोदी लहर में कांग्रेस के ये दिग्गज नेता भी हुए ढेर
हरीश रावत और प्रीतम सिंह को इस बार के आम चुनावों में क्रमश: नैनीताल और टिहरी लोकसभा सीटों पर हार का मुंह देखना पड़ा.

देहरादून: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के रण में बीजेपी सभी विपक्षी पार्टियों को पस्त कर दिया है. पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में 303 सीटों पर जीत दर्ज की है और एनडीए को चुनाव में 350 सीटें हासिल हुई है. उत्तराखंड की 5 लोकसभा सीट पर एक बार फिर कमल खिला है. कांग्रेस 2014 की तरह यहां एक बार फिर जीत दर्ज कराने में विफल रही. आलम ये है कि चुनाव में खड़े हुए कांग्रेस के दिग्गज भी चुनावी मैदान में पस्त हो गए. कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में से एक हरीश रावत और प्रीतम सिंह भी अपनी जीत दर्ज कराने में सफल नहीं हो सके. 

कांग्रेस के दिग्गज नेताओं हरीश रावत और प्रीतम सिंह को इस बार के आम चुनावों में क्रमश: नैनीताल और टिहरी लोकसभा सीटों पर हार का मुंह देखना पड़ा. पार्टी को उत्तराखंड में अच्छे प्रदर्शन के लिए रावत और सिंह से बहुत उम्मीदें थीं लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी की आंधी के आगे किसी की एक न चली. बीजेपी ने राज्य में एक बार फिर पांचों सीटों पर जीत का परचम लहराया. जीतना तो दूर, हरीश रावत और प्रीतम सिंह बीजेपी के उम्मीदवारों को कड़ी टक्कर तक नहीं दे पाए.

सिंह को टिहरी सीट पर वर्तमान सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह ने हराया जबकि रावत को प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष अजय भट्ट ने पटखनी दी. उत्तराखंड में भारी मतों के अंतर से पांचों सीटों पर विजय हासिल कर अपने कब्जे में रखने में सफल रही बीजेपी को इस बार 60 फीसदी से भी ज्यादा वोट मिले. इस पर्वतीय राज्य के इतिहास में किसी भी राजनीतिक दल को मिला यह सर्वाधिक मत प्रतिशत है.

लाइव टीवी देखें

साल 2014 में पिछले आम चुनावों में कुल मतों में से 55.30 प्रतिशत मत बीजेपी के पक्ष में पड़े थे लेकिन इस बार यह 5.70 प्रतिशत बढ़कर 61 प्रतिशत तक पहुंच गया. बीजेपी के बाद कांग्रेस दूसरे नंबर पर रही जिसे कुल मतों में से 31.4 फीसदी मत हासिल हुए. बसपा 4.48 मत प्रतिशत के साथ तीसरे स्थान पर रही. सभी पांचों सीटों पर सीधे मुकाबले में रहे बीजेपी और कांग्रेस दोनों बडे राजनीतिक दलों को मिले मत प्रतिशत में इतने ज्यादा अंतर से यह स्पष्ट है कि प्रदेश में बीजेपी को जबरदस्त समर्थन मिला.

(इनपुट-भाषा से भी)