close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गुजरात हाईकोर्ट से मिले झटके के बाद बोले हार्दिक पटेल, 'हम डरने वाले नही हैं'

हार्दिक पटेल ने कहा कि बीजेपी के बहुत सारे नेताओं पर मुकदमें है, उन्हें सजा भी हुई है लेकिन, कानून सिर्फ हमारे लिए है.

गुजरात हाईकोर्ट से मिले झटके के बाद बोले हार्दिक पटेल, 'हम डरने वाले नही हैं'
फाइल फोटो

अहमदाबाद: गुजरात हाईकोर्ट ने कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल की विसनगर दंगा मामले में मिली सजा पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद हार्दिक पटेल के लोकसभा चुनाव 2019 लड़ने पर पूर्णविराम लगा गया है. हाईकोर्ट का फैसला सामने आने के बाद हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर कहा कि मैं गुजरात हाईकोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं. उन्होंने बीजेपी पर संविधान के खिलाफ काम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव तो आते है जाते हैं लेकिन बीजेपी संविधान के खिलाफ काम कर रही है. 

 

 

हार्दिक पटेल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के पच्चीस साल के कार्यकर्ता को चुनाव लड़ने से क्यों रोका जा रहा है. उन्होंने कहा कि बीजेपी के बहुत सारे नेताओं पर मुकदमें है, उन्हें सजा भी हुई है लेकिन, कानून सिर्फ हमारे लिए है. उन्होंने कहा कि हम डरने वाले नहीं हैं. सत्य, अहिंसा और ईमानदारी से आम जनता की आवाज उठाते रहेंगे. जनता की सेवक कांग्रेस पार्टी की सरकार बनाएंगे. पार्टी के लिए गुजरात समेत पूरे देश में प्रचार करूंगा. उन्होंने कहा कि मेरा कसूर सिर्फ इतना है कि मैं बीजेपी के सामने झुका नहीं. सत्ता के सामने लड़ने का यह परिणाम है.

 

 

दरअसल, लोकसभा चुनाव 2019 के लिए तैयारियां कर रहे हार्दिक पटेल को गुजरात हाईकोर्ट से बड़ा झटका मिला है. हाईकोर्ट ने हार्दिक पटेल की विसनगर दंगा मामले में सत्र न्यायालय से मिली दो साल की सजा पर चुनाव तक रोक लगाने की मांग को खारिज कर दिया है. हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए हार्दिक पटेल आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. गौरतलब है कि पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने हाईकोर्ट में विसनगर दंगा मामले में अपनी सजा पर रोक लगाने की मांग की थी.

हार्दिक पटेल ने सौराष्ट्र की जामनगर लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर आम चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की थी. पटेल 12 मार्च को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस में शामिल हुए थे. वहीं, पाटीदार आरक्षण आंदोलन का गढ़ माने जाने वाले मेहसाणा में पाटीदार समाज पटेल के कांग्रेस में शामिल होने को लेकर आक्रोशित है. समाज का कहना है कि हार्दिक पटेल ने पूरे पाटीदार समाज के साथ धोखा किया है.