VIDEO: जनसभा में छलका जयाप्रदा का दर्द, आंसुओं के साथ बताया क्यों छोड़ना पड़ा था रामपुर
Advertisement

VIDEO: जनसभा में छलका जयाप्रदा का दर्द, आंसुओं के साथ बताया क्यों छोड़ना पड़ा था रामपुर

नामांकन के बाद उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया, जिसमें वह पुरानी यादों को याद करते हुए भावुक हो गईं. 

रैली के दौरान पुरानी बातों को याद कर वह भावुक हो गईं. (फोटो साभार वीडियो ग्रैब)

नई दिल्ली/रामपुर: रामपुर लोकसभा सीट के प्रत्याशियों ने नामांकन कर दिया है. नामाकंन के साथ ही पार्टी प्रत्याशियों का चुनावी वार शुरू हो गया है. महागठबंधन प्रत्याशी आजम खान ने जहां मंगलवार को आपना नामांकन दाखिल किया. वहीं, बुधवार (03 अप्रैल) को बीजेपी प्रत्याशी जयाप्रदा ने अपना नामांकन दाखिल किया. नामांकन के बाद उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया, जिसमें वह पुरानी यादों को याद करते हुए भावुक हो गईं. 

बीजेपी प्रत्याशी जयाप्रदा ने कहा कि मैं रामपुर नहीं छोड़ना नहीं चाहती थीं. उन्होंने कहा कि मैं रामपुर इसलिए नहीं छोड़ना चाहती थीं, क्योंकि गरीब लोगों को यहां दबाया जाता था, जो लोग अच्छा काम करते थे. उन्होंने आजम खान पर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग उनके खिलाफ काम करते थे, उन्हें जेल में डाल दिया जाता था. भावुक होकर उन्होंने कहा कि मैं रामपुर इसलिए छोड़कर गई और इसलिए सक्रिय राजनीति में नहीं आई, क्योंकि, मेरे पर तेजाब से हमले की साजिश रची गई थी. मेरे ऊपर हमला किया गया था. 

 

आपको बता दें कि 1994 में एनटी रामाराव उन्हें तेलगुदेशम पार्टी के साथ उन्होंने राजनीति में प्रवेश किया था और आंध्रप्रदेश से राज्यसभा सांसद चुनी गईं. उत्तर प्रदेश की राजनीति में आने के लिए उन्होंने सपा ज्वांइन की. साल 2004 और 2009 में सपा के टिकट पर सांसद चुनी गईं. साल 2011 में वो अमर सिंह के राष्ट्रीय लोकमंच में शामिल हुईं. साल 2014 में आरएलडी के टिकट पर बिजनौर से चुनाव लड़ा और हार गईं. बीजेपी उनकी पांचवीं पार्टी है और इस बार वह आजम खान को रामपुर लोकसभा सीट से टक्कर दे रही हैं. 

Trending news