close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोगों ने प्रियंका से कहा रायबरेली से चुनाव लड़िए, तो मुस्कुराते हुए बोलीं, 'वाराणसी से क्यों नहीं?'

इसी दौरान कार्यकर्ताओं ने उनसे कहा कि क्यों न सोनिया गांधी के बजाय वही रायबरेली से चुनाव लड़ें. कार्यकर्ताओं के सवाल पर प्रियंका ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया, "वाराणसी से क्यों नहीं?"

लोगों ने प्रियंका से कहा रायबरेली से चुनाव लड़िए, तो मुस्कुराते हुए बोलीं, 'वाराणसी से क्यों नहीं?'
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का फाइल फोटो..

नई दिल्ली : लोकसभा चुनावों का प्रचार करने के लिए सोनिया गांधी की संसदीय क्षेत्र रायबरेली में प्रियंका गांधी ने इशारों में कुछ ऐसा कह दिया, जिससे एक बार फिर उनके चुनाव लड़ने और प्रधानमंत्री मोदी को चुनौती के कयास तेज हो गए हैं. गुरुवार को प्रियंका गांधी रायबरेली दौरे पर थी. इस दौरान पार्टी कार्यकर्ता उनसे इस सीट से चुनाव लड़ने की मांग कर रहे थे. इसी दौरान प्रियंका ने कहा 'वाराणसी से चुनाव लड़ू क्या?'

तनावग्रस्त थी मां इसलिए नहीं आई रायबरेली
जिला मुख्यालय से लगभग छह किमी दूर एक गेस्ट हाउस में पार्टी बूथ कार्यकर्ताओं, ब्लॉक अध्यक्षों, ग्राम पंचायत और नगर पंचायत प्रमुखों को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि उनकी मां और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी तनावग्रस्त थी, जिस कारण रायबरेली दौरे पर नहीं आ सकीं. इसी दौरान कार्यकर्ताओं ने उनसे कहा कि क्यों न सोनिया गांधी के बजाय वही रायबरेली से चुनाव लड़ें. कार्यकर्ताओं के सवाल पर प्रियंका ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया, "वाराणसी से क्यों नहीं?"

अपने निर्वाचन क्षेत्र का काम देखेंगी सोनिया गांधी
प्रियंका गांधी ने यह भी कहा कि उन्होंने अपनी मां से कहा था कि वे चिंता न करें क्योंकि वह अपने निर्वाचन क्षेत्र का काम देखेंगी. यह कोई पहला मौका नहीं है जब प्रियंका ने चुनाव लड़ने की बात कही है. इससे पहले 27 मार्च को एक रैली को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा था कि पार्टी यदि उनसे चुनाव लड़ने के लिए कहेगी तो वह इसके लिए तैयार हैं और यदि वह चुनाव नहीं भी लड़ीं तो पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करती रहेंगी.

रण में गांधी परिवार का तीसरा सदस्य होंगी प्रियंका
अगर प्रियंका गांधी को कांग्रेस की ओर से टिकट दिया जाता है, तो वह गांधी परिवार की तीसरी सदस्य होंगी, जो चुनाव लड़ेंगी. बता दें कि राहुल गांधी और सोनिया गांधी पहले से ही चुनाव मैदान में हैं. सोनिया गांधी रायबरेली से चुनाव लड़ रही हैं, तो राहुल गांधी अमेठी से चुनाव लड़ेंगे. 

2019 नहीं 2022 के चुनावों पर है प्रियंका की नजर
प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को अपनी मां सोनिया गांधी के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ मैराथन मीटिंग शुरू करने से कुछ ही घंटों पहले उन्होंने कार्यकर्ताओं से उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू करने को कहा था. प्रियंका गांधी तीन दिन के चुनावी दौरे पर उत्तर प्रदेश में हैं. वह पूर्वाह्न् करीब 11.45 बजे भूएमऊ की अतिथिशाला पहुंची. 

इससे पहले प्रियंका ने अपने भाई और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के चुनाव क्षेत्र अमेठी के जिला मुख्यालय गौरीगंज के पास पास एक कार्यक्रम में पार्टी कार्यकर्ताओं से सवाल पूछकर उनको चकित कर दिया. उन्होंने पार्टी के एक कार्यकर्ता से पूछा, "क्या आप चुनाव की तैयारी कर रहे हैं? मैं 2019 की नहीं, बल्कि 2022 की बात कर रही हूं."उनके इस बयान से प्रदेश के लिए कांग्रेस की योजना और प्रियंका को वहां लाने की वजह का संकेत मिलता है.

बड़ी योजना के साथ चुनावी रैलियां कर रही हैं प्रियंका!
राहुल गांधी ने उनको 23 जनवरी को पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी नियुक्त करने के बाद संवाददाताओं से कहा, "उन्हें यहां चार महीने के लिए नहीं भेजा गया है. उनको यहां बड़ी योजना के साथ भेजा गया है. हम न सिर्फ 2019 में भाजपा को शिकस्त देंगे, बल्कि 2022 का चुनाव जीतेंगे." राहुल गांधी ने अमेठी के बाद इस बात को कई भाषणों में दोहराई है. कांग्रेस को 2017 में अमेठी के सभी पांच विधानसभा क्षेत्रों में हार मिली थी. चार सीटों पर भाजपा को जीत मिली थी, जबकि एक सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गई थी. 

Input : IANS