close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पहले मंत्रिमंडल से निकाले गए, अब और बढ़ सकती हैं राजभर की मुश्किलें, पार्टी के 3 विधायक छोड़ सकते हैं साथ

सूत्रों के मुताबिक, उपेक्षा के चलते तीनों विधायक राजभर से नाराज चल रहे है. इसलिए सुभासपा के तीन विधायक बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. 

पहले मंत्रिमंडल से निकाले गए, अब और बढ़ सकती हैं राजभर की मुश्किलें, पार्टी के 3 विधायक छोड़ सकते हैं साथ
साल 2002 में बीएसपी से अलग होकर ओमप्रकाश राजभर ने सुभासपा का गठन किया था.

नई दिल्ली/लखनऊ: मंत्री पद से बर्खास्तगी के बाद उत्‍तर प्रदेश में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है. पार्टी के अपने ही नेता उन्हें एक और झटका देने जा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक, उपेक्षा के चलते तीनों विधायक राजभर से नाराज चल रहे है. इसलिए सुभासपा के तीन विधायक बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. 

इस बात की तस्दीक राजभर का बयान भी की जा रही है जब उन्होंने अपनी बर्खास्तगी के बाद कहा था कि जिसको जहां जाना है जाए, हम किसी को नहीं रोकेंगे. पार्टी सूत्र के अनुसार, जल्द ही राजभर को छोड़ तीनों विधायक बीजेपी जॉइन कर सकते हैं. 

सूत्रों के अनुसार, नाराजगी के वजह से ही तीनों विधायकों ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान राजभर के कार्यक्रम से दूरी बनाए रखी. इसके अलावा राज्यसभा चुनाव के दौरान भी राजभर के एक विधायक ने क्रॉस वोटिंग की थी. बीजेपी इस नाराजगी का फायदा उठाने की तैयारी में है. बीजेपी ने तीनों असंतुष्ट विधायकों को अपने पाले में लाने की कोशिशें तेज कर दिया है. 

लाइव टीवी देखें

आपको बता दें साल 2002 में बीएसपी से अलग होकर सुभासपा का गठन करने वाले राजभर साल 2017 में पहली बार विधानसभा पहुंचे थे और मंत्री बने. राजभर के साथ उनकी पार्टी के तीन सदस्य भी जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं. साल 2017 के विधानसभा चुनाव में सुभासपा ने बीजेपी के साथ मिलकर आठ सीटों पर चुनाव लड़ा था. राजभर खुद गाजीपुर की जहूराबाद सीट से चुनाव जीते थे. त्रिवेणी राम भी इसी जिले की जखनिया और कैलाशनाथ सोनकर वाराणसी की अजगरा और रामानंद बौद्ध कुशीनगर की रामकोला सीट से चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे.