close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: कीर्ति आजाद और पीएन सिंह की मुश्किलें बढ़ी, BJP विधायक के भाई धनबाद से लड़ेगे चुनाव

धनबाद लोकसभा सीट से झरिया विधायक संजीव सिंह के भाई ने चुनाव लड़ने का फैसला किया है.

लोकसभा चुनाव 2019: कीर्ति आजाद और पीएन सिंह की मुश्किलें बढ़ी, BJP विधायक के भाई धनबाद से लड़ेगे चुनाव
धनबाद लोकसभा सीट पर त्रिकोणीय संघर्ष हो सकता है. (फाइल फोटो)

नितेश मिश्रा/धनबादः झारखंड के धनबाद लोकसभा सीट पर इस बार का चुनाव काफी दिलचस्प होने वाला है. जहां एक ओर कीर्ति आजाद की मुश्किलें कम नहीं हो रही है. वहीं, अब बीजेपी प्रत्याशी पशुपति नाथ सिंह (पीएन सिंह) के लिए जीत की राह आसान नहीं लग रही है. अब यहां बीजेपी के नेता भी बगावत करने लगे हैं. यहां तक की अब बीजेपी नेता चुनाव लड़ने का दावा कर रहे हैं.

दरअसल, धनबाद लोकसभा सीट पर बीजेपी से झरिया के विधायक संजीव सिंह के भाई सिद्धार्थ गौतम ने भी चुनाव लड़ने का दावा ठोका है. हालांकि संजीव सिंह इस वक्त जेल में हैं. सिद्धार्थ गौतम के चुनाव लड़ने के फैसले से पीएन सिंह की मुश्किलें बढ़ सकती है. इस वजह से संजीव सिंह से पीएन सिंह ने मुलाकात भी की है. 

हालांकि पीएन सिंह का कहना है कि चुनाव में ऐसे ही लड़ाई होती है. और इसके लिए पूरी तैयारी होती है. जनता लगातार बीजेपी उम्मीदवार को यहां जीता रही है. दो बार से वह खुद इस लोकसभा सीट से सांसद रह चुके हैं. इसलिए जनता जिसे चाहती है उसे ही जीताती है.

झरिया से विधायक संजीव सिंह के भाई सिद्धार्थ गौतम उर्फ़ मनीष सिंह ने इस बार लोकसभा से अपने दावेदारी पेश की है. धनबाद में सिंह मेंशन का अपना नाम है और उनके अपने समर्थक हैं. जिसको लेकर सिद्धार्थ ने चुनावी मैदान में जाना सही समझा. सिद्धार्थ ने साफ तौर से कहा कि उनकी लड़ाई यहां की समस्या से है. उनके खड़े होने से किसे नुकसान होता है और किसे फायदा इससे उनका लेना देना नहीं गैय

सिद्धार्थ ने अपना मेनोफेस्टो भी जारी कर दिया है. साथ ही 22 तारीख को नामांकन करने की घोषणा भी कर दी है.

बहरहाल, कांग्रेस उम्मीदवार कीर्ति आजाद यहां पहले से ही विरोध झेल रहे हैं. उनके कार्यकर्ता उन्हें काले झंडे दिखा रहे हैं. वहीं, अब बीजेपी उम्मीदवार पीएन सिंह के लिए अब उनकी पार्टी के नेता चुनौती दे रहे हैं. ऐसे में बीजपी की भी राह यहां थोड़ी मुश्किल लग रही है. देखना यह है कि जनता किसे अपना पसंद बनाती है.