राबड़ी देवी को मंजूर है प्रशांत किशोर का चैलेंज, लेकिन बोलीं- पहले जेल IG से अनुमति लें

नीतीश कुमार एनडीए में शामिल होने के बाद दुबारा महागठबंधन में जाना चाहते थे या नहीं, यह मुद्दा बिहार की सियासत में इन दिनों हॉट केक बना हुआ है.

राबड़ी देवी को मंजूर है प्रशांत किशोर का चैलेंज, लेकिन बोलीं- पहले जेल IG से अनुमति लें
राबड़ी देवी ने स्वीकार किया पीके का चैलेंज. (फाइल फोटो)

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार महागठबंधन में दुबारा वापस आना चाहते थे. यह दावा लालू परिवार लगातार कर रहा है. इस दावे ने बिहार की सियासत को गर्म कर रखा है. जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने इस मामले पर लालू यादव को मीडिया के सामने खुली बहस की चुनौती दे दी है. वहीं, राबड़ी देवी ने प्रशांत किशोर की चुनौती को स्वीकार करते हुए बहस के लिए नए दरवाजे खोल दी है.

नीतीश कुमार एनडीए में शामिल होने के बाद दुबारा महागठबंधन में जाना चाहते थे या नहीं, यह मुद्दा बिहार की सियासत में इन दिनों हॉट केक बना हुआ है. प्रशांत किशोर की चुनौती को स्वीकार करते हुए राबड़ी देवी ने कहा है कि लालू यादव जेल में हैं. प्रशांत किशोर को बहस करना है तो पहले रांची के जेल आईजी से परमिशन ले लें.

जी मीडिया से खास बातचीत के दौरान राबड़ी देवी ने कहा कि जनता नीतीश कुमार और उनकी नीतियों को भली भांति पहचान चुकी है. मैंने नवादा में चुनाव प्रचार किया था. जनता का मूड नरेन्द्र मोदी और नीतीश कुमार के खिलाफ है. जनता से मेरी अपील होगी कि दोनों को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाएं.

'चुनाव में खल रही लालू यादव की कमी'
वहीं, राबड़ी देवी ने चुनाव के दौरान लालू प्रसाद के साथ नहीं होने पर दुख भी जताया है. उनका कहना है कि देश और राज्य की जनता आज भी लालू यादव के साथ खड़ी है. उन्हें झूठे आरोप में फंसाया गया है. चारा घोटाले का कहीं कोई साक्ष्य नहीं है. जिस तरह आरोपी बनाया गया है. उसी तरह नीतीश कुमार के सीएम रहते भी बिहार में 38 घोटाले हुए हैं. श्रृजन और मुजफ्फरपुर शेल्टर होम घोटाला भी उन्हीं में से एक है. नीतीश कुमार भी सीएम हैं. उनके समय में ये तमाम घोटाले हुए हैं. ऐसे में वो भी दोषी हैं.

'परिवार में नहीं है कोई टूट'
परिवार में टूट के सवाल पर राबड़ी देवी ने कहा कि मेरे परिवार में कोई टूट नहीं हैं. टूट तो जेडीयू और बीजेपी में हो रही है. बीजेपी एमएलसी सचिदानंद राय ने बगावत किया है. जेडीयू के उपेन्द्र प्रसाद नीतीश कुमार का साथ छोड़ हम पार्टी में चले गये. लोगों को ये नहीं दिख रहा है, लेकिन हमारी पार्टी में थोड़ी सी हलचल हुई तो सभी टूट का दावा करने लगते हैं. तेजप्रताप यादव के मसले पर उन्होंने कहा कि सुबह-शाम फोन पर बातचीत होती है.

'मेरे परिवार पर लगते रहे हैं आरोप'
तेजस्वी यादव पर कम उम्र में बेसुमार संपत्ति इकट्ठा करने के आरोप को राबड़ी देवी ने बेबुनियाद बताया. साथ ही कहा कि इसी तरह के आरोप हमारे परिवार पर लगते रहे हैं. हमारे घर को बार-बार खंगाला गया. लंबे समय तक डीए केस चलता रहा, लेकिन सुप्रीम कोर्ट से हमें राहत मिली. किसी को कुछ नहीं मिला.

वहीं, तेजस्वी यादव की शादी से जुड़े सवाल पर राबड़ी भडक गईं. उन्होंने कहा कि पहले रामविलास पासवान और नीतीश कुमार के बेटे की शादी को लेकर मीडिया उनसे सवाल क्यों नहीं पूछती. मैनें तो काफी कम उम्र में अपने बेटे तेजप्रताप की शादी की. नीतीश और रामविलास के बेटे की उम्र तो काफी हो रही है.