अश्विनी चौबे के घूंघट वाले बयान पर राबड़ी बोली- हाफ़ पैंट से फुल पैंट हमने ही करवाया

अश्विनी चौबे के घूंघट वाले बयान पर राबड़ी देवी भड़क गई है. जिसके बाद राबड़ी देवी ने अश्विनी चौबे पर कड़ा हमला बोला है.

अश्विनी चौबे के घूंघट वाले बयान पर राबड़ी बोली- हाफ़ पैंट से फुल पैंट हमने ही करवाया
अश्विनी चौबे के बयान के बाद राबड़ी देवी ने हमला बोला है. (फाइल फोटो)

पटनाः केंद्रीय मंत्री एवं बीजेपी के वरिष्ठ नेता अश्विनी चौबे के बयान से बिहार में सियासत गरम हो गई है. आरजेडी नेता राबड़ी देवी को अश्विनी चौबे ने घूंघट में रहने की सलाह दे दी. चौबे ने बिहार में राजग में दरार के राबड़ी देवी के दावों को खारिज करते हुए यह कहकर विवाद उत्पन्न कर दिया कि बेहतर होगा कि 'वह घूंघट में रहें.' इस बयान के बाद राबड़ी देवी और अश्विनी चौबे में रार छिड़ गई है.

चौबे ने यह बयान बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री की ओर से किये गए इस दावे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए दिया कि नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद के नेतृत्व वाली राजद से अलग होने और राजग में वापसी के कुछ समय बाद राजद के साथ फिर से एक होने की बात की थी.

राबड़ी ने दावा किया कि पूर्व चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर कुमार के दूत के तौर पर पांच बार उनके पास आये थे और उन्होंने जदयू अध्यक्ष कुमार पर विश्वास नहीं होने के चलते उन्हें वापस कर दिया था. उन्होंने यह भी दावा किया कि इससे संकेत मिलता है कि जदयू और भाजपा के बीच सब कुछ ठीक नहीं है.

केंद्रीय मंत्री चौबे सीतामढ़ी में प्रचार कर रहे थे और उनसे उनकी प्रतिक्रिया मांगी गई. इस पर उन्होंने कहा, 'राजग में कोई दिक्कत नहीं है. मैं राबड़ी देवी के बारे में क्या कहूं? वह मेरी भाभी हैं. बेहतर होगा यदि वह घूंघट में रहें.' 

इस बयान के बाद आरजेडी नेता राबड़ी देवी पूरी तरह से भड़क गई. जिसके बाद ट्विटर पर उन्होंने लगातार कई ट्वीट कर अश्विनी चौबे पर हमला बोला. उन्होंने एक ट्वीट में लिखा अश्विनी चौबे जैसे संघी लंपट भूल गए है कि मोहन भागवत जैसे बूढ़े संघी लोगों की हाफ़ पैंट से फुल पैंट हमने ही करवाया था.

मनुवादी भाजपाई गुंडे घृणित मानसिकता के महिला विरोधी लोग है. ये भाजपाई मानसिक रूप से विक्षिप्त जीव है. पता नहीं घर में अपनी माँ-बहन,बेटी को कैसे सम्मान देते है?

राजद की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राबड़ी देवी ने एक वीडियो बयान जारी किया है जिसे उनकी पार्टी ने सोशल मीडिया पर प्रसारित किया है जिसमें उन्होंने चौबे से पूछा है कि क्या उनकी पुरुषवादी सोच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान के अनुरूप है. 

राबड़ी ने वीडियो में कहा, 'चौबेजी आपको देश के लोगों को यह बताना चाहिए कि आपको महिलाओं के घूंघट से बाहर निकलने और सामाजिक जीवन में शामिल होने से क्या परेशानी है.'