कमलनाथ सरकार की योजना पर शिवराज ने कसा तंज, बोले- 'युवाओं को बंदर नचाने की ट्रेनिंग देगी सरकार'

अब तीन महीने हो गए हैं. अब तक तो ग्यारह मुख्यमंत्री बदल दिए जाने चाहिए थे. इसी तरह बेरोजगारों को चार हजार रुपये महीने भत्ता देने का वादा किया गया था, लेकिन किसी भी बेरोजगार को एक धेला भी नहीं मिला है.

कमलनाथ सरकार की योजना पर शिवराज ने कसा तंज, बोले- 'युवाओं को बंदर नचाने की ट्रेनिंग देगी सरकार'
फाइल फोटो

रीवाः भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य की कमलनाथ सरकार पर युवाओं को रोजगार देने के लिए शुरू की गई योजना पर तंज कसते हुए कहा कि इस योजना के तहत आने वाले दिनों में राज्य सरकार युवाओं को शायद जुगनू, बिच्छू पकड़ने के अलावा बंदर नचाने का प्रशिक्षण देगी. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को बैतूल और रीवा में भाजपा उम्मीदवारों के समर्थन में आयोजित सभाओं में प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा और राज्य सरकार की योजनाओं पर भी तंज कसा. 

MP: इस उम्मीदवार के पास नहीं है चुनाव लड़ने के पैसे, EC से मांगी किडनी बेचने की अनुमति

राज्य सरकार द्वारा युवाओं को रोजगार देने के लिए अमल में लाई गई 'युवा स्वरोजगार स्वाभिमान योजना' का जिक्र करते हुए चौहान ने मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा बेरोजगार युवाओं को ढोर चराने, बैंड बाजा बजाने का प्रशिक्षण दिए जाने की घोषणा पर तंज कसते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ जल्दी ही प्रदेश में जुगनू, बिच्छू पकड़ने और बंदर नचवाने का नया धंधा युवाओं से करवाने वाले हैं.

कांग्रेस की सरकारों पर हमला बोलते हुए पूर्व मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस की सरकारों के दौरान हर जगह घोटाले ही घोटाले हुए हैं. इन सरकारों ने जमीन से लेकर आकाश तक और हवा से लेकर पानी तक में घोटाले किए हैं. गांधी परिवार के दामाद राबर्ट वाड्रा ने जमीन घोटाला किया है, जिससे सारी दुनिया में भारत की छवि कलंकित हो रही है. 

रतलाम में बढ़ी कांग्रेस की मुसीबत, भूरिया का कार्यकर्ताओं ने ही किया विरोध, कहा-30 हजार से हारोगे

पूर्व मुख्यमंत्री ने वायुसेना की एयर स्ट्राइक के सबूत मांगने वाले और सेना के शौर्य पर सवाल उठाने वालों पर प्रहार करते हुए कहा कि सेना के साहस और शौर्य का अपमान देश की जनता सहन नहीं करेगी. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने कर्जमाफी के नाम पर किसानों को सपने दिखाए. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि दस दिनों में कर्जमाफी नहीं हुई, तो हम मुख्यमंत्री बदल देंगे. अब तीन महीने हो गए हैं. अब तक तो ग्यारह मुख्यमंत्री बदल दिए जाने चाहिए थे. इसी तरह बेरोजगारों को चार हजार रुपये महीने भत्ता देने का वादा किया गया था, लेकिन किसी भी बेरोजगार को एक धेला भी नहीं मिला है. (इनपुटः आईएएनएस)