close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

स्मृति ईरानी ने साधा राहुल गांधी पर निशाना, कही यह बड़ी बात

स्मृति ईरानी उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट से राहुल गांधी के खिलाफ भाजपा की उम्मीदवार हैं.

स्मृति ईरानी ने साधा राहुल गांधी पर निशाना, कही यह बड़ी बात
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (फाइल फोटो)

अहमदाबाद: केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने बुधवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पांच साल में सिर्फ एक बार नामांकन पत्र भरने के वक्त अमेठी की याद आती है. गौरतलब है कि ईरानी उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट से राहुल गांधी के खिलाफ भाजपा की उम्मीदवार हैं.

उन्होंने गांधी पर अमेठी की महिलाओं और गरीबों के प्रति असंवेदनशील होने का आरोप लगाते हुए कहा कि यहां घरों में शौचालय नहीं होने के कारण महिलाओं को खुले में शौच करना पड़ता था.

'कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हमेशा ‘राहुल श्री’ की तारीफ करेंगे'
पाटण में रैली को संबोधित करते हुए ईरानी ने आरोप लगाया, ‘महल में रहने वाले राहुल गांधी अपने संसदीय क्षेत्र की गरीब महिलाओं की तकलीफ महसूस नहीं करते हैं, जिन्हें खुले में शौच के लिए जाना पड़ता है.’ ईरानी ने कहा कि चुनाव चाहे विधानसभा को हो या लोकसभा का, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हमेशा ‘राहुल श्री’ की तारीफ करेंगे.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘वह (राहुल गांधी) ऐसे व्यक्ति हैं जो अपने ही संसदीय क्षेत्र में पांच साल में एक बार आते हैं और वह भी इसलिए क्योंकि यहां आकर नामांकन भरना मजबूरी है.’’  ईरानी ने दावा किया कि अगर नामांकन भरने आने की मजबूरी नहीं होती तो राहुल गांधी पांच साल में भी एक बार अमेठी जाने का कष्ट नहीं करते.

स्मृति ने साधा राहुल गांधी पर निशाना
उन्होंने कहा, ‘मैंने अमेठी में जो देखा है, 15 साल से सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे कांग्रेस सांसद को इससे जरा भी दुख नहीं होता कि वह महलों में रहते हैं जबकि अमेठी की गरीब महिलाओं को खुले में शौच करना पड़ता है.’  उन्होंने आरोप लगाया कि जहां कांग्रेस नेता के घर में घी के दीये जलते हैं, गरीब महिलाएं शौच करने के लिए अंधेरा कोना खोजती हैं.

स्मृति ईरानी ने कहा, ‘जब गाड़ियों की रोशनी उनपर पड़ती है तो वे चेहरा छुपा लेती हैं, ताकि उनका परिवार शर्मिंदा ना महसूस करे.’  मंत्री ने कहा कि पहली बार भाजपा के शासन में अमेठी में दो लाख परिवारों के लिए शौचालय बनवाए गए.