छत्तीसगढ़ः इस गांव के लोगों के लिए सिरदर्द बना 'राफेल', बोले- बहुत बदनामी हो रही है

राफेल लड़ाकू विमान सौदा विवाद अब केंद्र सरकार ही नहीं छत्तीसगढ़ के एक गांव के लोंगों के लिए भी परेशानी का सबब बन गई है. गांव के लोग राफेल मुद्दे से इतने परेशान हो गए हैं, कि वह गांव छोड़ने तक को तैयार हैं.

छत्तीसगढ़ः इस गांव के लोगों के लिए सिरदर्द बना 'राफेल', बोले- बहुत बदनामी हो रही है
फाइल फोटो

नई दिल्लीः राफेल लड़ाकू विमान सौदा विवाद अब केंद्र सरकार ही नहीं छत्तीसगढ़ के एक गांव के लोंगों के लिए भी परेशानी का सबब बन गई है. गांव के लोग राफेल मुद्दे से इतने परेशान हो गए हैं, कि वह गांव छोड़ने तक को तैयार हैं. दरअसल, इस छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले के सराईपाली ब्लॉक के इस गांव का नाम 'राफेल' है, जिसमें करीब 2000 परिवार रहते हैं. गांव के लोगों का कहना है कि 'राफेल' (Rafale) सौदे के विवादों में घिरे होने के कारण आस-पास के गांवों के लोगों ने गांव के नाम का मजाक उड़ाना शुरू कर दिया है. सिर्फ नाम के ही कारण गांव के लोगों का लोग काफी मजाक उड़ाते हैं, जिससे हमें बिल्कुल अच्छा नहीं लगता. इसीलिए हम गांव का नाम बदलने का अनुरोध लेकर मुख्यमंत्री के पास भी गए थे, लेकिन उनसे मुलाकात ही नहीं हुई.'

राफेल सौदे के बाद अनिल अंबानी पर फ्रांस सरकार मेहरबान, माफ किए 1123 करोड़ रुपये का टैक्स

गांव के सरपंच धनीराम का कहना है कि 'गांव का नाम बार-बार सुर्खियों में आने पर पहले तो गांव के लोग काफी परेशान हो गए कि आखिर बार-बार गांव का नाम समाचार में क्यों आ रहा है, लेकिन बाद में जब पता चला कि यह सब गांव के नाम वाले लड़ाकू विमान के सौदे के चलते हो रहा है, तब समझ आया कि यह मुद्दा गांव से नहीं बल्कि 'राफेल लड़ाकू विमान' सौदे से जुड़ा है.' धनीराम ने आगे बताया कि 'उड़िया में पलायन को राफेल कहते हैं. गांव में शुरू-शुरू में रोजी-रोटी और रोजगार को लेकर लोग पलायन करने लगे, तभी से इसका नाम राफेल पड़ गया.'

अरुण जेटली ने कहा, 'राफेल मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला प्रक्रियागत'

वहीं ग्रामीणों का कहना है कि ''गांव का नाम 'राफेल' होने के कारण लोग नकारात्मक दृष्टि से देखते हैं, क्योंकि राफेल पर लगातार नकारात्मक समाचार प्रसारित हो रहे हैं. यही कारण है कि लोग थोड़े असहज हो जाते हैं. हालांकि, ज्यादा लोग इस गांव के बारे में नहीं जानते, इसलिए कोई खास दिक्कत नहीं होती.'' वहीं एक अन्य ग्रामीण ने बताया कि 'गांव का नाम तब से 'राफेल' है जब छत्तीसगढ़ राज्य का गठन भी नहीं हुआ था. यह नाम इतना पुराना है कि हम में से कइयों का तब जन्म भी नहीं हुआ था.'

सेना ने जब राफेल की खरीद की बात रखी तो कांग्रेस के खास दलाल इसमें भी लग गए: PM मोदी

बता दें राफेल लड़ाकू विमान को लेकर विपक्षी दल लगातार मोदी सरकार पर निशाना साध रहे हैं. कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों का आरोप है कि विमान की कीमत में अचानक से काफी ज्यादा इजाफा हुआ है और केंद्र सरकार यह सब उद्योगपति अनिल अंबानी को लाभ पहुंचाने के लिए कर रही है.