close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

एक्वेरियम में वर्जिन फीमेल एनाकोंडा ने दिया 18 बच्चों को जन्म, लेकिन इस बात से दुनिया हैरान...

हर किसी के लिए यह हर किसी के लिए हैरानी का विषय बन गया है कि आखिर बिना मेल एनाकोंडा के फीमेल एनाकोंडा ने इन बच्चों को जन्म कैसे दिया. बता दें इस फीमेल एनाकोंडा ने करीब 18 बच्चों को जन्म दिया था, जिनमें से सिर्फ 2 ही बेबी एनाकोंडा जिंदा हैं. जबकि बाकि के 16 बच्चों की मौत हो गई.

एक्वेरियम में वर्जिन फीमेल एनाकोंडा ने दिया 18 बच्चों को जन्म, लेकिन इस बात से दुनिया हैरान...
फोटो साभारः screen Grab from youtube

नई दिल्लीः बोस्टन के एक एक्वेरियम में एक फीमेल एनाकोंडा ने 18 बच्चे एनाकोंडा को जन्म दिया है. जिससे हर कोई हैरान रह गया है. दरअसल, फीमेल एनाकोंडा ने जिस एक्वेरियम में बच्चों को जन्म दिया है, उसमें एक भी मेल एनाकोंडा नहीं था. ऐसे में हर किसी के लिए यह हर किसी के लिए हैरानी का विषय बन गया है कि आखिर बिना मेल एनाकोंडा के फीमेल एनाकोंडा ने इन बच्चों को जन्म कैसे दिया. बता दें इस फीमेल एनाकोंडा ने करीब 18 बच्चों को जन्म दिया था, जिनमें से सिर्फ 2 ही बेबी एनाकोंडा जिंदा हैं. जबकि बाकि के 16 बच्चों की मौत हो गई.

मोमोज खाने को लेकर हुए झगड़े में चली अंधाधुंध गोलियां, एक महिला समेत 3 घायल

न्यू इंग्लेंड एक्वेरियम के बायोलॉजिस्ट टॉरी बेबसन, जो यहां इन जानवरों की देखरेख करते हैं ने बताया कि 'हम सभी यह देखकर हैरान थे कि एक्वेरियम में बेबी एनाकोंडा यहां से वहां घूम रहे थे. क्योंकि हमें इस बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि हमारे पास एक प्रेग्नेंट एनाकोंडा है. हम सब इसलिए भी हैरान थे क्योंकि हमारे पास कोई भी मेल एनाकोंडा नहीं था. हमारे पास 4 एनाकोंडा हैं और वह सभी फीमेल एनाकोंडा हैं. ऐसे में इस घटना ने हम सभी को हैरानी में डाल दिया है. एना नाम की इस एनाकोंडा ने 18 बच्चों को जन्म दिया है, वह भी बिना किसी मेल सांप के संपर्क में आए.'

शिकारी सांप को नन्ही गिलहरी ने बनाया अपना शिकार, Viral Photo देखकर आप भी रह जाएंगे हैरान

दरअसल, सांप ने पार्थोजेनेसिस की प्रक्रिया के अंतर्गत इन बेबी एनाकोंडा को जन्म दिया है. इस प्रक्रिया में बिना फर्टिलाइजेशन के अलैंगिक प्रजनन किया जाता है. पौधों और केशुरुकी की दुनिया में यह एक बेहद सामान्य प्रक्रिया है. जिसे अभी तक सिर्फ सांप, शार्क, मेंढक, छिपकली और पक्षियों पर आजमाया गया है. बता दें हरे एनाकोंडा के मामले में यह दूसरा मामला है जब इस प्रक्रिया से बच्चों को जन्म दिया गया है. न्यू इंग्लैंड एक्वेरियम की एक अन्य कर्मचारी सारा टेम्पेस्टा ने कहा कि इस यह प्रक्रिया ज्यादातर उन जानवरों पर आजमाई जाती है, जिन्हें कैद करके रखा जाता है.