नकदी की कमी के बावजूद पाकिस्तान ने सऊदी अरब के प्रिंस के स्वागत में बिछाया रेड कारपेट

​सऊदी अरब ने शुक्रवार को कहा कि वह आतंकवाद और चरमपंथ के खिलाफ भारत की लड़ाई में साथ है

नकदी की कमी के बावजूद पाकिस्तान ने सऊदी अरब के प्रिंस के स्वागत में बिछाया रेड कारपेट
संसद भवन पर सलमान का 120 फुट ऊंची और 45 फुट चौड़ी विशाल तस्वीर लगाई गई है. (फाइल फोटो)

इस्लामाबादः भारत-पाकिस्तान के बीच बेहद तनावपूर्ण संबंधों तथा नकदी की कमी का सामना कर रहे पाकिस्तान ने सऊदी अरब के वली अहद (युवराज) मोहम्मद बिन सलमान का रविवार को भव्य स्वागत किया. सलमान की इस्लामाबाद की यात्रा में अज्ञात कारणों से एक दिन की देरी हुई है. घटनाक्रमों से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि दरअसल इस्लामाबाद में सरकारी हलके में इस बात को लेकर अंदेशा हो गया था कि कश्मीर में बृहस्पतिवार को भारतीय सैनिकों पर हुए आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच उत्पन्न तनाव के बाद सुरक्षा कारणों को लेकर सलमान यह यात्रा रद्द कर सकते हैं. हालांकि, उन्होंने तब राहत की सांस ली जब विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार रात घोषणा की कि खाड़ी देश के वली अहद रविवार को आएंगे.

PAK विदेश मंत्री पर खुश हुए सऊदी अरब के शहजादे, दिया 63 लाख रुपये का तोहफा

सलमान की यात्रा के कार्यक्रम में बदलाव के लिए कोई वजह नहीं बताई गई है. उन्हें शनिवार को पाकिस्तान पहुंचना था लेकिन उनके आगमन में एक दिन की देरी हो गई है. यहां पहुंचने पर उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई. सलमान का विमान रावलपिंडी के नूर खान वायु सेना के अड्डे पर उतरा. विमान से बाहर आने पर प्रधानमंत्री इमरान खान ने उनका स्वागत किया. प्रधानमंत्री के मंत्रिमंडलीय सहयोगी तथा सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा भी वायु सेना के अड्डे पर उनके स्वागत के लिए मौजूद थे. 

पाकिस्तान की यात्रा के बाद प्रिंस सलमान 19 फरवरी को भारत आएंगे  
सऊदी अरब ने शुक्रवार को कहा कि वह आतंकवाद और चरमपंथ के खिलाफ भारत की लड़ाई में साथ है और उसने पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के जम्मू कश्मीर में आतंकवादी हमले को ‘‘कायरतापूर्ण’’ बताते हुए उसकी निंदा की. गौरतलब है कि इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. अप्रैल 2017 में सलमान के वली अहद के पद पर पदोन्नति के बाद उनकी पाकिस्तान की यह पहली आधिकारिक यात्रा है.

यात्रा के दौरान पाकिस्तान और सऊदी अरब विभिन्न क्षेत्रों में समझौतों और समझौता ज्ञापनों (एमओयू) पर हस्ताक्षर करेंगे. सलमान और उनके प्रतिनिधिमंडल के भव्य स्वागत के लिए इस्लामाबाद में विशेष इंतजाम किए गए हैं. संसद भवन पर सलमान का 120 फुट ऊंची और 45 फुट चौड़ी विशाल तस्वीर लगाई गई है. 

इस अवसर पर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए है और सभी महत्वपूर्ण सरकारी कार्यालयों और दूतावासों तक जाने वाले रास्तों को सील कर दिया है. शहर और प्रवेश स्थानों पर 1,000 से ज्यादा सुरक्षा जांच चौकियां बनाई गई है. मोहम्मद बिन सलमान के लिए चार स्तरीय सुरक्षा बंदोबस्त किए गए हैं. कामगारों और छात्रों को परेशानी से बचाने के लिए सोमवार को अवकाश घोषित किया गया है.