प्रधानमंत्री मोदी के नमो एप पर महागठबंधन को लेकर पूछा जा रहा है ये अहम सवाल

आम चुनावों से पहले बीजेपी के खिलाफ गठबंधन बनाने के प्रयासों के बीच यह सर्वे किया जा रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी के नमो एप पर महागठबंधन को लेकर पूछा जा रहा है ये अहम सवाल
सर्वे में यह भी पूछा गया है कि आपके लोकसभा क्षेत्र के तीन लोकप्रिय बीजेपी नेता कौन से हैं...

नई दिल्ली: क्या बीजेपी विरोधी ‘महागठबंधन’ का आपके संसदीय क्षेत्र में कोई असर होगा? यह सवाल ‘नमो’ एप पर ‘पीपुल्स पल्स’ सर्वे में लोगों से पूछे जाने वाले कई सवालों में से एक है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ट्विटर पर एक संक्षिप्त वीडियो पोस्ट कर लोगों से सर्वे में हिस्सा लेने की अपील की. 

सर्वे में लोगों से उनके राज्य, संसदीय क्षेत्र, सस्ती स्वास्थ्य सुविधाएं, किसानों की समृद्धि, भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन, स्वच्छ भारत, राष्ट्रीय सुरक्षा, अर्थव्यवस्था, ढांचागत सुविधाएं, रोजगार और ग्रामीण विद्युतीकरण जैसे क्षेत्रों में केंद्र सरकार की उपलब्धियों के बारे में पूछा जा रहा है.

वीडियो संदेश में प्रधानमंत्री ने कहा, "नमो एप पर सर्वे शुरू किया गया है. सर्वे के माध्यम से मैं सीधे आपका फीडबैक चाहता हूं. आपका फीडबैक मायने रखता है. विभिन्न मुद्दों पर आपके फीडबैक से हमें महत्वपूर्ण निर्णय करने में मदद मिलेगी. क्या आप सभी उस महत्वपूर्ण सर्वे में हिस्सा लेंगे.’’ 

सवालों में महागठबंधन के बारे में एक प्रश्न भी शामिल है. इसमें लोगों से पूछा गया है कि क्या ‘महागठबंधन’ का उनके संसदीय क्षेत्र में असर पड़ेगा. आम चुनावों से पहले बीजेपी के खिलाफ गठबंधन बनाने के प्रयासों के बीच यह सर्वे किया जा रहा है.

सर्वे में यह भी पूछा गया है कि आपके लोकसभा क्षेत्र के तीन लोकप्रिय बीजेपी नेता कौन से हैं. प्रश्न के जरिये पूछा गया है कि सर्वे भरने वाला व्यक्ति राज्य के तीन लोकप्रिय नेताओं के नाम बताए. सर्वे में लोगों से पूछा गया है कि उनके क्षेत्र के सांसद क्या उनके लिए सहज रूप से उपलब्ध हैं या नहीं. सर्वे में भाग लेने वाले व्यक्ति से अपने सांसद के कार्यों और उसकी पहल के बारे में प्रश्न पूछे गए हैं. यह भी पूछा गया है कि क्या उनका सांसद अपने क्षेत्र में लोकप्रिय है या नहीं. 

एक अहम सवाल जो सर्वे में शामिल है, वह यह है कि क्या आप बीजेपी को चंदा देने चाहते हैं या बीजेपी के लिए स्वैच्छिक रूप से काम करना चाहते हैं, क्या उनके पास नमो मर्चेंडाइज है, क्या भारत सरकार की कार्य संस्कृति में सुधार हुआ है.