INDvsWI: आज चाहर ब्रदर्स को आजमा सकते हैं कोहली, विंडीज को पहली जीत की तलाश

भारत और वेस्टइंडीज के बीच टी20 सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच मंगलवार को गयाना के प्रोविडेंस स्टेडियम में खेला जाएगा. 

INDvsWI: आज चाहर ब्रदर्स को आजमा सकते हैं कोहली, विंडीज को पहली जीत की तलाश

प्रोविंडेस (गयाना): भारत ने तीन मैचों की टी20 सीरीज के पहले दो मैच जीतने के बाद वेस्टइंडीज (West Indies) पर 2-0 की अजेय बढ़त ले ली है. तीसरा मैच मंगलवार को प्रोविडेंस स्टेडियम में खेला जाएगा. इसी मैच से सही मायने में भारत के वेस्टइंडीज दौरे (India vs West Indies) का आगाज होगा क्योंकि अभी तक खेले गए दोनों टी20 मैच अमेरिका में आयोजित किए गए थे. भारत (Team India) ने इस टी20 सीरीज में कई युवा खिलाड़ियों का चयन किया है, जिनमें से कुछ पहले दो मैचों में खेल चुके हैं. कोहली ने दूसरे मैच के बाद ऐसे संकेत दिए थे कि यह उनके लिए बेंच पर बैठे बाकी के खिलाड़ियों का अच्छा मौका है क्योंकि सीरीज पहले ही कब्जे में आ चुकी है. 

भारत ने पहले दो मैचों में नवदीप सैनी, वॉशिंगटन सुंदर, खलील अहमद, मनीष पांडे को मौका दिया था. तब कुछ और युवा खिलाड़ी बेंच पर बैठे थे, जिनमें दीपक चाहर, राहुल चाहर और श्रेयस अय्यर शमिल हैं. विराट कोहली (Virat Kohli) अब इन तीनों में से किसे मौका देते हैं यह देखना दिलचस्प होगा. ऐसा भी हो सकता है कि कप्तान इन तीनों को आजमा लें. 

यह भी पढ़ें: डेल स्टेन ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लिया, वनडे और टी20 मैच खेलते रहेंगे

सीरीज बेशक भारत के हिस्से आ गई है लेकिन कोहली ने साफ कह दिया है कि जीत उनके लिए अभी भी प्राथमिकता है. इसलिए टीम प्रबंधन बड़ा जोखिम लेने से बचेगा. टी20 में विंडीज सबसे खतरनाक टीम और अब वह अपने घर में खेलेगी जो इस मौजूदा विजेता को पहले से कई ज्यादा खतरनाक और आत्मविश्वास से भरी बना देगा. ऐसे में कोहली सावधान रहना चाहेंगे क्योंकि एक हार युवाओं के मनोबल पर असर डाल सकती है. 

बल्लेबाजी में भारत को काम करने की जरूरत होगी क्योंकि पहले मैच में टीम बिखर गई थी और दूसरे मैच में भी तभी मजबूत स्कोर कर पाई थी जब ओपनर रोहित शर्मा ने अर्धशतक जमाया था. विराट कोहली अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में नहीं बदल पाए हैं. शिखर धवन लय हासिल नहीं कर पाए हैं. वहीं, टीम प्रबंधन युवा ऋषभ पंत से निराश दिख रहा है. वे पहले दो टी20 मैचों में गैरजरूरी शॉट खेल आउट हुए जो उनकी अपरिपक्वता तो दर्शाता है. मनीष पांडे का बाहर बैठना तय लग रहा है. उनके स्थान पर अय्यर को टीम में जगह मिल सकती है. 

यह भी पढ़ें: पाकिस्तानी क्रिकेट का संकट बढ़ा, कोच ने कप्तान सरफराज को हटाने की सिफारिश की

भारत की गेंदबाजी अच्छी रही है. सैनी ने अपनी तेजी और सटीक लाइन लेंथ से सभी को प्रभावित किया है. भुवनेश्वर कुमार का अनुभव भी काम आ रहा है. खलील अहमद कुछ खास प्रभाव नहीं छोड़ पाए हैं. स्पिन में सुंदर और क्रुणाल पांड्या बल्लेबाजों पर नकेल कसने में सफल रहे हैं. 

मेजबान टीम की अगर बात की जाए तो उसके सभी दिग्गज अपनी टीम के लिए छवि के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं. पहले मैच में किसी तरह कीरोन पोलार्ड ने 49 रन बनाए थे तो वहीं दूसरे मैच में रोवमैन पावेल ने 54 रनों की पारी खेली थी. इन दोनों को अगर छोड़ दिया जाए तो एविन लुइस, जॉन कैम्पवेल, शिमरोन हेटमायेर कप्तान कार्लोस ब्रैथवेट का बल्ला शांत ही रहा है. 

इनमें से चुनी जाएंगी टीमें: 
भारत:
विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप कप्तान), शिखर धवन, लोकेश राहुल, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), क्रुणाल पांड्या, रवींद्र जडेजा, वॉशिंगटन सुंदर, राहुल चाहर, भुवनेश्वर कुमार, खलील अहमद, दीपक चाहर, नवदीप सैनी. 
वेस्टइंडीज: कार्लोस ब्रैथवेट (कप्तान), जॉन कैम्पबेल, एविन लुईस, शिमरोन हेटमायर, निकोलस पूरन, कीरोन पोलार्ड, रोवमैन पॉवेल, कीमो पॉल, सुनील नरेन, शेल्डन कॉट्रेल, ओशाने थॉमस, एंथनी ब्राम्बले, जेसन मोहम्मद, खेरी पियरे.