• 416/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    252बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    101कांग्रेस+

  • अन्य

    63अन्य

रणजी ट्रॉफी: कपिल-जहीर-बुमराह नहीं, यह गेंदबाज है देश का बेस्ट मीडियम पेसर

पंकज सिंह रणजी ट्रॉफी में 400 विकेट लेने वाले पहले तेज गेंदबाज बने. वे मौजूदा सेशन में पुडुचेरी टीम से खेल रहे हैं. 

रणजी ट्रॉफी: कपिल-जहीर-बुमराह नहीं, यह गेंदबाज है देश का बेस्ट मीडियम पेसर
पंकज सिंह. (फोटो साभार: @pankajsingh282)

नई दिल्ली: जब कभी भारत के सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाज का जिक्र होता है तो पहला नाम कपिल देव का आता है. जब हम आगे बढ़ते हैं तो मनोज प्रभाकर, जवागल श्रीनाथ, जहीर खान, आशीष नेहरा, इशांत शर्मा, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह... के नाम आते हैं. लेकिन इस लिस्ट में कभी भी उत्तर प्रदेश में जन्मे और राजस्थान व पुडेचुरी के पंकज सिंह का नाम नहीं आता, जो रणजी ट्रॉफी में सबसे अधिक विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज हैं. 

33 साल के पंकज सिंह भारत के लिए दो टेस्ट और एक वनडे मुकाबला खेल चुके हैं. वे रणजी ट्रॉफी 2018-19 के इस सीजन में पुडुचेरी के लिए खेल रहे हैं. उन्होंने नगालैंड के खिलाफ जारी मैच में छह विकेट ले लिए हैं. इसके साथ ही वे रणजी ट्रॉफी में 400 विकेट लेने वाले पहले मीडियम पेसर बन गए हैं. रणजी ट्रॉफी के इतिहास में अब तक सिर्फ 10 गेंदबाज ही 400 विकेट का आंकड़ा छू सके हैं. कर्नाटक के आर. विनय कुमार इस लिस्ट में शामिल होने वाले दूसरे तेज गेंदबाज बन सकते हैं. वे अब तक 392 विकेट ले चुके हैं. 

यह भी पढ़ें: रणजी ट्रॉफी: मध्य प्रदेश 35/3 के स्कोर के बाद 35 रन ही पर सिमटा, बनाया अनचाहा रिकॉर्ड

दिलचस्प बात यह है कि रणजी ट्रॉफी में 400 विकेट लेने वाले पहले नौ गेंदबाज स्पिनर थे. अब तेज गेंदबाज पंकज सिंह ने भी इस एलीट लिस्ट में अपनी जगह बना ली है. इस लिस्ट में राजिंदर गोयल, एस.वेंकटराघवन, बीएस चंद्रशेखर, बिशन सिंह बेदी भी शामिल हैं. राजिंदर गोयल के नाम सबसे अधिक 627 विकेट लेने का रिकॉर्ड है. 

पंकज सिंह ने अपने करियर के ज्यादातर मैच राजस्‍थान के लिए खेले हैं. वे मौजूदा सेशन में ही पुडुचेरी टीम से जुड़े हैं. उनका पुडुचेरी के लिए प्रदर्शन शानदार रहा है. उन्‍होंने इस सीजन में तीन बार पांच विकेट हॉल और एक बार मैच में 10 विकेट हॉल अपने नाम किया है. 

मध्य प्रदेश और त्रिपुरा की पारी 35 रन पर सिमटी
पंकज सिंह ने रणजी ट्रॉफी 2018-19 सीजन के आखिरी राउंड में 400 विकेट पूरे करने की उपलब्धि अपने नाम की. इस राउंड में दो और दिलचस्प आंकड़े सामने आए. इस राउंड के पहले दिन त्रिपुरा की टीम राजस्थान के खिलाफ 35 रन बनाकर आउट हो गई. वहीं, तीसरे दिन मध्य प्रदेश की टीम आंध्र के खिलाफ 35 रन पर सिमट गई.