VIDEO: कीरोन पोलार्ड ने किया ऐसा ‘तमाशा’, जो IPL में पहले कभी नहीं देखा गया

कीरोन पोलार्ड मुंबई के आखिरी ओवर में वाइड नहीं दिए जाने से नाराज थे. यह ओवर ड्वेन ब्रावो कर रहे थे. 

VIDEO: कीरोन पोलार्ड ने किया ऐसा ‘तमाशा’, जो IPL में पहले कभी नहीं देखा गया
कीरोन पोलार्ड ने आईपीएल के 12वें सीजन में 16 मैच में 156.74 की स्ट्राइक रेट से 279 रन बनाए हैं. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: इंडियन टी20 लीग (आईपीएल) को बहुत लोग क्रिकेट की तमाशा लीग भी बोलते हैं. इसकी बड़ी वजह यह है कि यह जितना खेल है, उतना ही इसमें मनोरंजन का पुट भी शामिल रहता है. मुंबई और चेन्नई के बीच रविवार को खेले गए फाइनल (IPL2019final) में कुछ ऐसा ही हुआ, जिसे इस सीजन का सबसे बड़ा तमाशा कहा जा सकता है. हालांकि, ऐसा करने वाले कीरोन पोलार्ड (Kieron Pollard) का उद्देश्य ‘तमाशा’ दिखाना नहीं था. वे तो ऐसा करके अंपायर के फैसले का विरोध जता रहे थे. लेकिन ऐसा करते वक्त वो कुछ ऐसा कर गए, जिसने दर्शकों को हंसने और अंपायरों को उन्हें फटकार लगाने की वजह दे दी. 

यह वाक्या मुंबई (Mumbai Indians) और चेन्नई (Chennai Super Kings) के बीच खेले गए फाइनल में हुआ. मुंबई की टीम टॉस जीतकर पहले बैटिंग कर रही थी. जब मुंबई की पारी का आखिरी ओवर शुरू हुआ, तब कीरोन पोलार्ड और मिचेल मैक्लिनघन क्रीज पर थे. चेन्नई की ओर से यह ओवर वेस्टइंडीज के ड्वेन ब्रावो कर रहे थे. ब्रावो ने जब यह ओवर फेंकना शुरू किया, तब मुंबई का स्कोर सात विकेट पर 140 रन था. स्ट्राइक एंड पर पोलार्ड थे. 

कीरोन पोलार्ड 20वें ओवर की पहली गेंद पर कोई रन नहीं बना सके. ब्रावो की दूसरी गेंद भी डॉट थी. यह गेंद ऑफ स्टंप से काफी बाहर थी, लेकिन पोलार्ड उसे खेलते हुए काफी आगे निकल आए और अंपायर ने इसे वाइड नहीं दिया. तीसरी गेंद तो ऑफ स्टंप से बहुत बाहर थी. यह निश्चित रूप से वाइड लग रही थी, लेकिन अंपायर नितिन मेनन शायद यहां गलती कर बैठे. पोलार्ड को इस पर बिलकुल भरोसा नहीं हुआ और उन्होंने बैट हवा में उछाल दिया. लेकिन तमाशा तो अभी बाकी था. 

ड्वेन ब्रावो जब चौथी गेंद करने के लिए रनअप के लिए गए, तो पोलार्ड विकेट से काफी दूर ऑफ स्टंप के बाहर वहां पर खड़े हो गए, जहां वाइड गेंद के लिए निशान होता है. ब्रावो ने फिर भी रनअप शुरू किया. जैसे ही ब्रावो अंपायर के करीब पहुंचे, पोलार्ड ऑफ स्टंप से बाहर चलते हुए विकेट से करीब पांच-छह फीट दूर निकल गए. पोलार्ड के ऐसा करने पर ब्रावो ने गेंद नहीं फेंकी. यह कुछ ऐसी हरकत थी, जो आईपीएल में पहले कभी नहीं देखी गई. यह एक तरह से अनुशासनहीनता थी और दोनों अंपायरों ने इसके लिए पोलार्ड से बात भी की. हालांकि, यह नहीं पता कि उन्होंने पोलार्ड से क्या कहा.