Year-Ender: 2019 के 3 फ्लॉप सितारे: अर्श से फर्श पर गिरे DK, रायडू और...

Indian Cricket: भारत के 3 क्रिकेटरों के लिए 2019 की शुरुआत तो शानदार रही, लेकिन जैसे-जैसे साल आगे बढ़ा, इनका करियर खतरे में आता गया. 

Year-Ender: 2019 के 3 फ्लॉप सितारे: अर्श से फर्श पर गिरे DK, रायडू और...
दिनेश कार्तिक और विजय शंकर विश्व कप के बाद भारतीय टीम से बाहर हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: क्रिकेट उन दिलचस्प खेलों में से एक है, जो किसी खिलाड़ी को बड़ी तेजी से सुपरस्टार बना देता है. यही खेल कब किसी सितारे को जमीन पर ला पटके, इसका अंदाज भी लगाना मुश्किल है. साल 2019 (Year Ender 2019) में तीन भारतीय क्रिकेटरों के साथ ऐसा ही हुआ. एक खिलाड़ी, जिसकी 2018 की आखिर में कप्तान से लेकर कोच तक वाहवाही करते नहीं थकते थे, मार्च 2019 तक उसके सितारे गर्दिश में थे. एक और क्रिकेटर, जिसने मार्च 2018 में फिनिशर का तमगा हासिल किया, 2019 में उसका करियर ही फिनिश होता दिखा. एक अन्य खिलाड़ी की पहचान नंबर-4 के लिए हुई, लेकिन अब वह टीम में ही नहीं है. 

हम बात कर रहे हैं दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) और अंबाती रायडू (Ambati Rayudu) की. जब बात 2019 के फ्लॉप क्रिकेटरों की हो रही हो तो इन दोनों के साथ विजय शंकर (Vijay Shankar) का नाम भी लिया जा सकता है. एक-एक करके देखते हैं कि इन तीनों का करियर ग्राफ 2019 में कैसे नीचे गिरता चला गया. शुरुआत करते हैं दिनेश कार्तिक से, जो देश में सबसे सक्रिय सीनियर क्रिकेटर भी हैं. 

यह भी पढ़ें: 2010-19: टीम इंडिया रही इस दशक की ‘दबंग’, ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड पीछे छूटे

विश्व कप के बाद टीम से बाहर हुए DK
तमिलनाडु के दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik ने भारत के लिए पहला वनडे सितंबर 2009 में खेला था. वे एमएस धोनी से भी सीनियर क्रिकेटर हैं. हालांकि, कार्तिक का करियर धोनी के साये में धीरे-धीरे आगे बढ़ा. लंबे उतार-चढ़ाव के बाद 2017-18 में कार्तिक ने टीम इंडिया में जगह पक्की की. उन्होंने मार्च 2018 में बांग्लादेश के खिलाफ आखिरी गेंद पर छक्का जमाकर भारत को जीत दिलाई और नए फिनिशर के रूप में उभरे. लेकिन 2019 में उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा. उन्होंने इस साल 8 वनडे मैचों में 22.25 की औसत 89 रन बनाए. कार्तिक ने डेब्यू करने के 15 साल बाद वर्ल्ड कप (ICC World Cup) खेला और तीन मैच में सिर्फ 14 रन बना सके. अब वे टीम से बाहर हैं और तीन विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा, ऋषभ पंत और संजू सैमसन उनसे कहीं आगे निकल गए हैं.

 

आसमान से गिरे, खजूर पर अटके रायडू
अगर आप अंबाती रायडू (Ambati Rayudu) के आंकड़े देखेंगे, तो मन में पहला सवाल यही आएगा कि यह खिलाड़ी भारतीय टीम (Team India) में क्यों नहीं है. आंध्र के इस खिलाड़ी ने 55 वनडे में 47.05 की औसत से 694 रन बनाए हैं. 2018 में उनका प्रदर्शन इतना शानदार था कि कप्तान विराट कोहली, कोच रवि शास्त्री ने एक सुर में कह दिया था कि भारत को नंबर-4 के लिए आदर्श बल्लेबाज मिल गया है. लेकिन यह छलावा साबित हुआ. 2019 आते ही रायडू का प्रदर्शन नीचे गिरने लगा. वे इस साल 10 वनडे में 30.87 की औसत से 247 रन ही बना सके. उन्हें विश्व कप (World Cup 2019) से पहले ही टीम इंडिया से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. इससे आहत रायडू ने संन्यास का ऐलान कर दिया. हालांकि, वे करीब चार महीने बाद संन्यास तोड़कर वापस आ गए. लेकिन टीम इंडिया में उनकी जगह अब शायद ही बने. 

यह भी पढ़ें: 2010-19: क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कोहली को बनाया अपना कप्तान, पर बदल दिया बैटिंग-ऑर्डर

सच होकर बिखर गया विजय का सपना
तमिलनाडु के ऑलराउंडर विजय शंकर (Vijay Shankar) के लिए 2019 खुशियों की सौगात लेकर आया. उन्हें इस साल पहली बार वनडे मैच खेलने का मौका मिला. 26 साल के विजय शंकर ने 18 जनवरी 2019 को वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया और महज चार महीने के भीतर वे विश्व कप के लिए टीम इंडिया में शामिल थे. वो भी नंबर-4 की स्पेशलिस्ट भूमिका के साथ. यह किसी भी क्रिकेटर के सपने का सच होने जैसा था. विजय का यह सपना सच तो हुआ, लेकिन अधूरा ही. वे विश्व कप में खेलने उतरे. उन्होंने विश्व कप में तीन मैच खेले और फिर चोटिल हो गए. विश्व कप में उनका प्रदर्शन ऐसा नहीं था कि उन्हें फिर से टीम में शामिल किया जाता. उन्हें टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. तब से वे टीम इंडिया से बाहर हैं.