close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IPL 2019: चेन्नई के प्लेऑफ में पहुंचने से अब कुछ साफ होने लगी है प्वाइंट टेबल की तस्वीर

आईपीएल के प्लेऑफ में चेन्नई का स्थान सुनिश्चित होने से अब प्वाइंट टेबल की स्थिति साफ होती दिख रही है. लेकिन अब भी बाकी सभी टीमों के लिए प्लेऑफ में पहुंचने की उम्मीद कायम है. 

IPL 2019: चेन्नई के प्लेऑफ में पहुंचने से अब कुछ साफ होने लगी है प्वाइंट टेबल की तस्वीर
चेन्नई के प्लेऑफ में पहुंचने से बेंगलुरू और राजस्थान को आगे की रणनीति बनाने में आसानी होगी. (फोटो फाइल )

नई दिल्ली: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में मंगलवार को हुए अहम मुकाबले में चेन्नई की टीम की जीत से प्वाइंट टेबल की स्थिति अब कुछ साफ होने की उम्मीद बढ़ गई है. इस मैच से पहले चेन्नई के भी प्लेऑफ की दौड़ से बाहर होने की, कम ही सही, उम्मीद थी. अब चेन्नई के अंक तालिका में कुल 16 अंक हो गए हैं. इस 16 अंक आंकड़े तक पहुंचना नीचे की दो टीमों के लिए तो मुमकिन ही नहीं है, क्योंकि वे अगर बचे सारे मैच जीत भी जाएं तो भी वे 16 के आंकड़े को छू नहीं सकेंगी. लेकिन उनके लिए अब टॉप चार में पहंचने का गणित लगाना अब थोड़ा कम मुश्किल हो गया है. 

प्लेऑफ में पहुंचना ही काफी नहीं
पहले चेन्नई की ही बात करें. चेन्नई की 11 मैचों में अब 16 अंक हो गए है. उसके अब केवल तीन मैच ही रह गए हैं. अब उसे मुंबई, दिल्ली और पंजाब के खिलाफ मैच खेलना है. इन मैचों में जीत उसे मजबूत करती जाएगी और प्वाइंट टेबल में टॉप पर कायम रखेगी. प्लेऑफ की शीर्ष दो टीमों को फाइनल में जाने के दो मौके मिलते हैं. इसलिए एमएस धोनी कभी नहीं चाहेंगे कि उनकी टीम तीसरे और चौथे स्थान पर नहीं जाना चाहेगी. 

यह भी पढ़ें: IPL 2019: पहला ओवर मेडन खेलने के बाद अकेले शेन वॉटसन ने ही छीन लिया हैदराबाद से मैच

बेंगलुरू के लिए रणनीति बनाना होगा आसान
चेन्नई के प्लेऑफ में पहुंचने से अब नीचे की दो टीमों, बेंगलुरू और राजस्थान के लिए गणित कुछ आसान हो जाएगा जिन्हें बाकी सारे मैचों में जीत ही चाहिए. पहले बात करें बेंगलुरू की. अभी बेंगलुरू को चार मैच खेलने हैं. उसे पंजाब दिल्ली, राजस्थान और हैदराबाद के खिलाफ मैच खेलना है जिसमें से पंजाब के खिलाफ तो मैच बुधवार को ही होना है. बेंगलुरू को ये सारे मैच जीतने होंगे वह भी बड़े अंतर से. इसीलिए बेंगलुरू का प्लेऑफ में पहुंचना बहुत ही मुश्किल है. 

राजस्थान की मुश्किलें कम नहीं पर बेंगलुरू से बेहतर
बेंगलुरू के जैसा ही हाल राजस्थान का ही है. उसे भी अभी चार मैच ही खेलने हैं और कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरू और दिल्ली के खिलाफ खेलने हैं. अगर राजस्थान ये सारे मैच जीतती है तो वह कोलकाता और बेंगलुरू को प्लेऑफ की दौड़ से बाहर कर देगी. वहीं कोलकाता या बेंगलुरू भी अपने मैच जीत कर राजस्थान को बाहर कर देंगे.

Point Table

कोलकाता है बाउंड्री पर
अंक तालिका में कोलकाता अभी आठ अंकों के साथ छठे स्थान पर हैं. सारे मैच जीतने पर उसके 16 अंक हो जाएंगे और वह प्लेऑफ में पहुंच सकती है. अब उसका मुकाबला राजस्थान, मुंबई, पंजाब और आखिर में फिर से मुंबई से है. कोलकाता की यह लड़ाई उतनी मुश्किल नहीं है. लेकिन बेंगलुरू और राजस्थान जरूर चाहेंगी कि कोलकाता कम से कम दो मैच हार कर प्लेऑफ से बाहर हो जाए. 

तो बाकी टीमों का क्या
प्लेऑफ की दौड़ में दिल्ली 11 मैचों में 14 अंक और मुंबई 10 मैचों में 12 अंकों के साथ मजबूत हैं. वहीं पंजाब और हैदराबाद के 10 मैचों में 10 अंक हैं. अगर माना जाए कि मुंबई और दिल्ली अपने अंक 16 करके प्लेऑफ में पहुंच जाएं तो नीचे की तीनों टीमों को दुआ करनी होगी कि पंजाब और हैदराबाद दोनों ही टीमें किसी भी हालत में दो से ज्यादा मैच न जीतें. तभी राजस्थान और बेंगलुरू के लिए (और कोलकाता के एक मैच हारने के बाद भी) प्लेऑफ में बने रहने की गुंजाइश है.

 दिल्ली और खास तौर पर मुंबई के बचे सारे मैच हारने से गणित और रोचक हो सकता है. अब दोनों ही टीमों को आपस में मैच नहीं खेलना है. मुंबई को बेंगलुरू और राजस्थान से मैच नहीं खेलना है जबकि कोलकाता से दो मैच खेलने हैं. वहीं दिल्ली को अभी बेंगलुरू और राजस्थान दोनों से एक मैच खेलना है.