close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जुलाई-अगस्त में इस जगह सबसे ज्यादा घूमने जाते हैं भारतीय, ये आदतें जानकर रह जाएंगे हैरान

 मानसून के दो महीनों में भारतीय सबसे ज्यादा धार्मिक यात्राएं करते हैं. इसके अलावा ट्रैवल के दौरान भारतीयों की कुछ खास बातें जानकर आप हैरान रह जाएंगे. 

जुलाई-अगस्त में इस जगह सबसे ज्यादा घूमने जाते हैं भारतीय, ये आदतें जानकर रह जाएंगे हैरान
बाबा अमरनाथ की यात्रा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत में मानसून हर साल जून के आखिरी हफ्ते से देशभर में बरसने लगता है. इसकी शुरुआत केरल से शुरू होती है और इसके बाद पूर देश में लोगों को गर्मी से राहत मिलती है. ज्यादातर लोगों को ये लगता है कि भारतीय सबसे ज्यादा गर्मी की छुट्टियों में घूमने जाते हैं लेकिन ऐसा नहीं है. भारतीय सबसे ज्यादा मानसून के समय घूमना पसंद करते हैं वो भी कुछ खास जगहों पर. कुछ साल पहले हुए National Sample Survey Office (NSSO), Ministry of Statistics and Programme Implementation की एक रिपोर्ट 'इंडिकेटर्स ऑफ डोमेस्टिक टूरिज्म इन इंडिया' के मुताबिक भारतीय जुलाई से अगस्त के दौरान सबसे ज्यादा धार्मिक स्थलों में जाना पसंद करते हैं.

देश हो या विदेश भारतीय सैलानियों की संख्या हर साल बढ़ती जा रही है. कहना गलत नहीं होगा कि भारतीय बहुत ज्यादा ट्रैवल करते हैं. शॉपिंग से लेकर अच्छा खाने तक भारतीय सभी तरह की नई चीजें एक्सप्लोर करने के लिए ट्रैवल करते हैं. कई बार लोग पढ़ाई और मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए भी ट्रैवल करते हैं. लेकिन मानसून के इन दो महीनों में भारतीय सबसे ज्यादा धार्मिक यात्राएं करते हैं. इसके अलावा ट्रैवल के दौरान भारतीयों की कुछ खास बातें जानकर आप हैरान रह जाएंगे. 

देश के ये टूरिस्ट स्पॉट हमेशा रहते हैं सदाबहार, गूगल सर्च पर रहते हैं नंबर वन

भारत की सिर्फ 2 प्रतिशत महिलाएं ही करती हैं ट्रैवल
'इंडिकेटर्स ऑफ डोमेस्टिक टूरिज्म इन इंडिया' के मुताबिक भारतीय एक हफ्ते से ज्यादा कभी भी छुट्टियों पर नहीं जाते. मई-जून में इंडियन्स अक्सर हॉलीडे के लिए घूमने निकलते हैं. सर्दी के मौसम में लोग शॉपिंग के लिए ट्रैवल करते हैं. भारतीय शॉपिंग के लिए ट्रैवल करते समय औसतन 13,902 रुपये खर्च करते हैं. धार्मिक और तीर्थ स्थलों पर भारतीय सबसे ज्यादा जुलाई-अगस्त के महीने में जाते हैं. भारत में सिर्फ 2 प्रतिशत महिलाएं काम के लिए ट्रैवल करती हैं. महिलाएं ज्यादातर मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए ट्रैवल करती हैं.