अगर किम जोंग उन की यह बात मानेगा अमेरिका, तो हो सकती है तीसरी शिखर वार्ता

किम ने अपने भाषण में कहा कि फरवरी में ट्रंप के साथ शिखर वार्ता इसलिए विफल रही क्योंकि अमेरिका ने एकतरफा मांगें रखी थी लेकिन निजी तौर पर अमेरिका के राष्ट्रपति के साथ उनके संबंध अच्छे हैं. 

अगर किम जोंग उन की यह बात मानेगा अमेरिका, तो हो सकती है तीसरी शिखर वार्ता
उत्तर कोरिया की संसद में एक सत्र के दौरान ये बात सामने आई. (फाइल फोटो)

प्योंगयांग: उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने कहा है कि अगर साल के अंत तक अमेरिका द्विपक्षीय रूप से स्वीकार होने वाले समझौते की पेशकश करता है तो वह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ तीसरी शिखर वार्ता करने को तैयार हैं.

किम का आरोप, अमेरिका ने रखी थी एकतरफा मांग
प्योंगयांग की आधिकारिक कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने शनिवार को बताया कि किम ने यह बात उत्तर कोरिया की संसद में एक सत्र के दौरान कही. किम ने अपने भाषण में कहा कि फरवरी में ट्रंप के साथ शिखर वार्ता इसलिए विफल रही क्योंकि अमेरिका ने एकतरफा मांगें रखी थी लेकिन निजी तौर पर अमेरिका के राष्ट्रपति के साथ उनके संबंध अच्छे हैं. 

उत्तर कोरिया मांग रहा प्रतिबंधों से राहत
वहीं, अमेरिका ने इस शिखर वार्ता के विफल रहने के पीछे की वजह बताते हुए कहा था कि उत्तर कोरिया प्रतिबंधों से बड़ी राहत की मांग कर रहा था लेकिन उसके बदले सीमित निरस्त्रीकरण कदम उठाना चाहता था. शुक्रवार को केसीएनए ने बताया कि किम स्टेट अफेयर्स कमीशन के दोबारा अध्यक्ष चुने गए हैं. निर्णय लेने के मामले में यह देश की शीर्ष इकाई है.