भारत भाग्य विधाता! जानिए 73 सालों में कितना बदल गया हिन्दुस्तान?

गुलामी की बेड़ियों को तोड़कर 15 अगस्त 1947 को हमारा देश आजाद हो गया था. लेकिन क्या आपको इस बात की जानकारी है कि इन 73 वर्षों में हिन्दुस्तान कितना बदल गया है? इस खास रिपोर्ट में देखिए..

भारत भाग्य विधाता! जानिए 73 सालों में कितना बदल गया हिन्दुस्तान?

भारत के इतिहास में आज का दिन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है. क्योंकि हमारे देश के गौरवशाली इतिहास में 15 अगस्त की तारीख सुनहरे अक्षरों से लिखा हुआ है. इसी तारीख को सन् 1947 में हमारा देश गुलामी की बेड़ियों को तोड़कर आजाद हो गया था. सबसे पहले हम आपको ये बताते हैं कि हमारा भारत भाग्य विधाता क्यों?

भारत भाग्य विधाता क्यों?

  • क्योंकि आत्मनिर्भर निर्भर भारत अपना भविष्य स्वयं गढ़ रहा है
  • क्योंकि सशक्त भारत पराक्रम की परिभाषा लिख रहा है
  • क्योंकि आध्यात्मिक भारत श्रीराम के आदर्शों पर चल रहा है
  • क्योंकि विश्वगुरु भारत दुनिया का नेतृत्व कर रहा है
  • क्योंकि समृद्ध भारत विकास के शिखर छू रहा है

73 साल का गौरवशाली सफर

इसी कड़ी में आपको भारत के गौरवशाली सफर के कुछ आंकड़ों से रूबरू करवाते हैं. जिससे ये समझना आसान हो जाएगा कि हमारा देश में 73 सालों में कहां से कहां पहुंच गया है. आपको हमारे देश की GDP, FDI, विदेशी मुद्रा भंडार और कई अन्य तरक्कियों से रूबरू करवाते हैं.

सन् 1947 में हमारे देश की GDP ₹ 2.7 लाख करोड़ थी, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश की GDP ₹ 215.5 लाख करोड़ है.

सन् 1947 में हमारे देश की FDI ₹ 0 थी, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश की FDI ₹ 3.53 लाख करोड़ है.

सन् 1947 में हमारे देश का विदेशी मुद्रा भंडार $ 2 बिलियन था, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश का देश का विदेशी मुद्रा भंडार $ 513.25 बिलियन है.

सन् 1947 में हमारे देश में सोना प्रति 10 ग्राम ₹ 88 था, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश में सोने की कीमत ₹ 55,600 प्रति 10 ग्राम है.

सन् 1947 में हमारे देश में प्रति व्यक्ति आय ₹ 250 थी, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश में प्रति व्यक्ति आय ₹ 1,26,408 है.

सन् 1947 में हमारे देश में औसत आयु 32 वर्ष थी, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश में औसत आयु 69 वर्ष है.

सन् 1947 में हमारे देश में स्कूल में बच्चों की तादाद 46% थी, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश में स्कूली बच्चों की तादाद 96% है.

सन् 1947 में हमारे देश में अखबारों की संख्यों 200+ थी, जबकि वर्ष 2020 में हमारे देश में 1 लाख से अधिक अखबार निकलते हैं.

इसे भी पढ़ें: स्वतंत्रता दिवस पर दिल्ली के इन रास्तों पर जाने से बचें, इन बातों का रखें ख्याल

इसी तरह हमारा हिन्दुस्तान लगातार बदलता रहा, हर कोई आगे बढ़ता रहा, हर किसी के चेहरे की खुशी बढ़ती गई और देखते ही देखते हमारे देश को आजाद हुए 73 साल बीत गए.

इसे भी पढ़ें: गृहमंत्री अमित शाह ने दी कोरोना वायरस को मात

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर के नौगाम में आतंकी हमला, दो पुलिसवालों को वीरगति