सोनिया गांधी के वीडियो संदेश पर बोलीं निर्मला सीतारमण, भ्रम न फैलाएं

सीतारमण ने कहा, मैं भारत के सभी नागरिकों से अपील करती हूं कि वे इस भ्रम और डर की स्थिति में नहीं पड़ें. कांग्रेस, तृणमूल और आम आदमी पार्टी के साथ-साथ लेफ्ट पार्टियां संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी को आपस में जोड़कर डर पैदा कर रही हैं जबकि एनआरसी अबतक तैयार भी नहीं हुआ है.

सोनिया गांधी के वीडियो संदेश पर बोलीं निर्मला सीतारमण, भ्रम न फैलाएं

नई दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर संशोधित नागरिकता कानून को लेकर लोगों को भ्रमित करने और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के साथ इसकी गलत तरीके से तुलना करने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को उनकी आलोचना की. सीतारमण ने प्रदर्शनकारियों से इस कानून को पढ़ने और जरूरत पर स्पष्टीकरण मांगने के लिए कहा.

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रदर्शनकारियों से यह भी कहा कि वे ऐसी ताकतों से बचें जो उन्हें भ्रमित कर रही हैं और देश के नागरिकों के बीच हिंसा और डर फैला रही हैं. सीतारमण ने कहा, मैं भारत के सभी नागरिकों से अपील करती हूं कि वे इस भ्रम और डर की स्थिति में नहीं पड़ें.

कांग्रेस, तृणमूल और आम आदमी पार्टी के साथ-साथ लेफ्ट पार्टियां संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी को आपस में जोड़कर डर पैदा कर रही हैं जबकि एनआरसी अबतक तैयार भी नहीं हुआ है.

नकली सोशल मीडिया अकाउंट से दिल्ली में फैलाई गई हिंसा

'सीएए से नहीं जाएगी किसी भारतीय की नागरिकता'
उन्होंने कहा, मैं देश के प्रत्येक नागरिक से अपील करती हूं कि हताश हो चुकी कांग्रेस, टीएमसी, आप और वाम दल जो कर रहे हैं, उससे आप लोग प्रभावित न हों. निर्मला ने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून किसी भी भारतीय की नागरिकता छीनने के लिए नहीं है. उन्होंने जोर देकर कहा कि इस कानून का किसी भारतीय नागरिक से कोई लेना देना नहीं है.
सोनिया गांधी पर पलटवार करते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा, 'यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी संशोधित नागरिकता कानून को लेकर देश के लोगों को भ्रमित कर रही हैं और गलत तरीके से इसे एनआरसी से जोड़ रही हैं जबकि एनआरसी अबतक तैयार भी नहीं किया गया है.

सोनिया गांधी ने जारी किया था वीडियो संदेश 
नागरिकता कानून पर देशभर में मचे बवाल के बीच कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी सरकार की कार्रवाई की निंदा करती है. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में लोगों को सरकार की नीतियों के खिलाफ आवाज उठाने और अपनी चिंताओं को दर्ज करने का अधिकार है. उन्होंने कहा कि सरकार लोगों की आवाज दबाने की कोशिश कर रही है.

कांग्रेस की अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी सरकार ने जनता की आवाज की घोर अनदेखी की है, असहमति को दबाने के लिए निर्दयता से बल प्रयोग किया है, यह लोकतंत्र में स्वीकार्य नहीं है. कांग्रेस भाजपा सरकार की कार्रवाई की निंदा करती है और छात्रों और नागरिकों के संघर्ष में उनके साथ है.

ठंडी हवाओं के बीच प्रियंका वाड्रा पहुंचीं इंडिया गेट, प्रदर्शनकारियों से भी की मुलाकात