पॉपकार्न में छिपा सेहत का खजाना

Last Updated: Thursday, March 29, 2012 - 02:49

लंदन:  अगली बार आप फिल्म देखने जाएं तो मध्यांतर में पॉपकार्न का पैकेट लेना न भूलें क्योंकि एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि हलके फुलके अंदाज में खा लिए जाने वाले मकई के यह फूले हुए दाने दरअसल बेहतरीन पोषक आहार है।

 

स्क्रैंटन विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने पता लगाया है कि पॉपकार्न में फलों और सब्जियों से कहीं ज्यादा एंटीआक्सीडेंट या शरीर से बीमारी को दूर रखने वाले तत्व होते हैं। वैसे यह तो सभी जानते हैं कि पॉपकार्न में फाइबर भरपूर मात्रा में होते हैं और वसा या फैट बहुत कम होते हैं।

 

एंटीआक्सीडेंट की अधिक मात्रा शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है और कैंसर, डिमेंशिया और यहा तक कि दिल की बीमारी से भी हिफाजत करती है।

 

सूत्रों के मुताबिक पॉपकार्न में पोलीफेनोल्स एंटीआक्सीडेंट होते हैं जो शरीर में जमा होकर कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले हानिकारक तत्वों के जमाव को रोकते हैं। अध्ययन से पता चला है कि पॉपकार्न के एक बाउल में 300 मिलीग्राम तक पोलीफेनोल्स हो सकते हैं, जो एक दिन की एक व्यक्ति की पोलीफिनोल्स की जरूरत के 13 प्रतिशत की पूर्ति करते हैं।

 

एक अन्य आश्चर्यजनक तथ्य यह सामने आया है कि पॉपकार्न का भीतर का सख्त भाग, जो अकसर दातों में फंसकर परेशान करता है दरअसल पोलीफेनोल्स और फाइबर का सबसे बड़ा स्रोत है।

 

वैसे अध्ययन का नेतृत्व करने वाले डा. जो विंसन का कहना है कि मकई के दानों को तेल, मक्खन अथवा नमक डालकर भूनने से इसके पोषक तत्व कम हो जाते हैं। उनका कहना है कि अगर मकई के दानों को बिना कुछ मिलाए ही भूनकर खाया जाए तो इसके एक बाउल से एक व्यक्ति की पूरे दिन की अनाज की जरूरत का 70 प्रतिशत तक मिल जाता है। (एजेंसी)



First Published: Thursday, March 29, 2012 - 08:19


comments powered by Disqus