close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बेरोजगारी पर CII ने जताई चिंता, जल्द पाना होगा इस समस्या से निजात

CII की तरफ से कहा गया है कि कम खपत और विनिर्माण क्षेत्र का कम उपयोग के कारण निजी क्षेत्र से कोई नया पूंजी निवेश नहीं आ रहा है.

बेरोजगारी पर CII ने जताई चिंता, जल्द पाना होगा इस समस्या से निजात
6 साल से लेकर 16 साल की उम्र के 30 करोड़ बच्चे हैं जो 10 साल बाद रोजगार बाजार से जुड़ेंगे. (फाइल)

कोलकाता: उद्योग मंडल सीआईआई ने बुधवार को देश के रोजगार बाजार पर चिंता व्यक्त की. रोजगार बाजार में आने वाले युवाओं के लिये रोजगार सृजन की चुनौती के बीच भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने यह बात कही. सीआईआई ने इस समस्या से निपटने के लिये मिलकर काम करने की जरूरत बतायी. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनमी (सीएमआईई) की एक रिपोर्ट में देश में बढ़ती बेरोजगारी की बात कहे जाने के एक दिन बाद सीआईआई ने यह बात कही.

सीआईआई के अध्यक्ष राकेश भारती मित्तल ने सालाना क्षेत्रीय बैठक में कहा, ‘‘जो बड़ी चीज परेशान कर रही है, वह है रोजगार...कम खपत और विनिर्माण क्षेत्र का कम उपयोग के कारण निजी क्षेत्र से कोई नया पूंजी निवेश नहीं आ रहा.’’ सीएमआईई ने एक रिपोर्ट में कहा है कि रोजगार चाहने वालों की संख्या में कमी के बावजूद बेरोजगारी दर बढ़ी है.

केंद्रीय मंत्री का दावा, अकेले पर्यटन क्षेत्र ने 4 सालों में 1.4 करोड़ लोगों को रोजगार दिया

मित्तल ने कहा कि 6 साल से लेकर 16 साल की उम्र के 30 करोड़ बच्चे हैं. ये सभी 10 साल बाद रोजगार बाजार से जुड़ेंगे. इन्हें रोजगार उपलब्ध कराना एक चुनौती है. उन्होंने कहा, ‘‘हमें अभी से इसके लिये काम करने की जरूरत है. स्कूल से ही व्यवसायिक प्रशिक्षण से लोगों को रोजगार के काबिल बनाया जा सकता है. प्रौद्योगिकी तेजी से बदल रही है और पांच साल बाद बदलाव आ रहे हैं. उद्योग को शिक्षाविदों के साथ मिलकर इसके अनुसार भविष्य की योजना बनानी चाहिए.’’ 

(इनपुट-भाषा)