close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: खिताब से चूकने के दो दिन बाद बोले विलियम्सन- पता नहीं था ‘वह’ नियम

विश्व कप फाइनल में बाउंड्री काउंट के कारण खिताब गंवाने वाली न्यूजीलैंड टीम के कप्तान केन विलियम्सन का कहना है कि वे ओवर थ्रो नियम के बारे में नहीं जानते थे.

World Cup 2019: खिताब से चूकने के दो दिन बाद बोले विलियम्सन- पता नहीं था ‘वह’ नियम
विलियम्सन का कहना है कि मैच में बहुत सी बातों के बारे में अगर मगर की चर्चा हो सकती है. (फोटो:Reuters)

नई दिल्ली:  आईसीसी विश्व कप-2019 (ICC World Cup 2019) फाइनल में न्यूजीलैंड की हार दुर्भाग्यपूर्ण रही. इस मैच में दो बार टाई की स्थिति के बाद अंतिम नतीजा बाउंड्री काउंट से हुआ जिसकी दुनिया भर में जम कर आलोचना हो रही है. इसी के साथ मैच के आखिरी ओवर में ओवरथ्रो में इंग्लैंड को दिए गए छह रन का फैसला भी आलोचकों के निशाने पर है. बताया जा रहा है कि नियमों के मुताबिक इंग्लैंड को केवल 5 रन दिए जाने चाहिए थे. इस पर न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ( Kane Williamson) का कहना है कि वे मैदान पर इस नियम के बारे में नहीं जानते थे.

कैसे चर्चा में आया यह विवाद
मैच खत्म होने के बाद दुनिया भऱ में बाउंड्री काउंट की ही चर्चा हो रही थी, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के पूर्व अंपायर साइमन टॉफेल ने यह कह कर सनसनी फैला दी कि वास्तव आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर जो ओवरथ्रो हुआ था उसमें इंग्लैंड को केवल पांच रन ही दिए जा सकते थे क्योंकि दौड़ा गया दूसरा पूरा नहीं माना जा सकता था. दुनिया भर में यह खबर वायरल होने के साथ लंबी बहस को जन्म दे गई. सवाल यह भी उठा कि आखिर अंपायरों से यह चूक हो कैसे गई.  

यह भी देखें: VIDEO: बोल्ट ने पकड़ा कैच पर न बचा सके छक्का, अंपायर से पहले गप्टिल ने किया इशारा

क्या कहा विलियम्सन ने 
विलियम्सन ने कहा कि उन्हें इस बारीक नियम की जानकारी नहीं थी. न्यूजीलैंड मीडिया में आई खबरों के मुताबिक उन्होंने कहा, “ वास्तव में उन्हें इस नियम की जानकारी उस समय नहीं थी. जाहिर है आप उस पर विश्वास करते हैं जो अंपायर करते हैं. लेकिन मेरे हिसाब से अब यह उन्हीं चीजों की तरह है जो अगर कुछ अगल होता की श्रेणी में आती हैं. इससे पहले भी विलियम्सन बाउंड्री काउंट नियम के बारे में कह चुके है, “नियम, नियम होते हैं और इंग्लैंड समेत हम सभी उसके हिसाब से खेलने की कोशिश करते हैं. हमें लगा था कि हम खिताब जीत जाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो सका.”

यह भी पढ़ें: World Cup final: अगर दोनों टीमों के बाउंड्री काउंट भी बराबर होते, तो कैसे होता फैसला

क्या है यह ओवर थ्रो विवाद
दरअसल जब कोई ओवरथ्रो रन होता है तो अंपायरों को तय करना होता है कि दौड़ा गया रन भी ओवर थ्रो में शामिल करना है या नहीं. इसके लिए नियम यह है कि जब फील्डर गेंद फेंक रहा हो तो हाथ से गेंद छूटने से पहले बल्लेबाजों एक दूसरे को क्रॉस कर चुके हों तो ही ओवरथ्रो के रनों में दौड़ा गया रन जोड़ा जा सकता है. ऐसा ही कुछ यहां अंपायरों को देखना था जो यह न देख सके कि जब गप्टिल फेंक रहे थे तो उनके हाथ से गेंद छूटने के पहले स्टोक्स और आदिल राशिद एक दूसरे को क्रॉस नहीं कर सके थे. इस हिसाब से इंग्लैंड को छह नहीं पांच रन दिए जाने चाहिए थे जो कि नहीं हुआ.