close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: सहवाग को रास नहीं आई टीम इंडिया की यह स्ट्रैटजी, सोशल मीडिया पर ली खबर

विश्व कप में वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के खिलाफ मैचों में स्पिनरों के खिलाफ रक्षात्मक खेलने की टीम इंडिया की नीति की सहवाग ने आलोचना की है. 

World Cup 2019: सहवाग को रास नहीं आई टीम इंडिया की यह स्ट्रैटजी, सोशल मीडिया पर ली खबर
सहवाग को लगता है कि टीम इंडिया की रन बनाने की गति ज्यादा होना चाहिए. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: टीम इंडिया ने आईसीसी विश्व कप 2019 (ICC World Cup 2019) में खुद को अजेय रखने का क्रम जारी रखते हुए वेस्टइंडीज को 125 रन से हरा दिया. इस मैच में टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने का फैसला किया और 50 ओवरों में 7 विकेट गंवाकर 268 रन बनाए. इस मैच में मिडिल ओवरों में टीम इंडिया के बल्लेबाजों की एक बार फिर धीमी बल्लेबाजी दिखी. इससे पहले भी अफगानिस्तान के खिलाफ भी टीम इंडिया के बल्लेबाजों खास तौर पर विराट के बाद के बल्लेबाजों की धीमी बल्लेबाजी रही. पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने गुरूवार को विश्व कप में स्पिनरों के खिलाफ भारत की इस रक्षात्मक नीति की आलोचना की.

पिछले दो मैचों में धीमी बल्लेबाजी की है 
वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के खिलाफ जीत के बावजूद विराट कोहली एंड कंपनी विश्व कप में लगातार दूसरे मैच में धीमे गेंदबाजों के खिलाफ जूझती दिखी. भारतीय खिलाड़ियों को स्पिन गेंदबाजी को खेलने के लिये बेहतरीन माना जाता है लेकिन उसके बल्लेबाज अफगानिस्तान के खिलाफ अंतिम मैच में राशिद खान और मुजीब उर रहमान के खिलाफ जूझते दिखे. यही हाल वेस्टइंडीज के स्पिनर फैबियन एलेन के खिलाफ रहा.

यह भी पढ़ें: IND vs WI World Cup: टीम इंडिया की टूर्नामेंट में सबसे बड़ी जीत, विंडीज को 125 रन से हराया

स्पिन के खिलाफ रक्षात्मक खेल ज्यादा क्यों
सहवाग ने ट्वीट किया, ‘‘राशिद खान ने चार ओवर में 25 रन दिये और फिर अगले छह ओवरों में उसने केवल 13 रन ही दिये और फैबियन एलेन ने पांच ओवर में 34 रन लुटाये थे लेकिन अगले पांच में उसने केवल 18 रन दिये. स्पिनरों के खिलाफ इतने रक्षात्मक नहीं खेल सकते.’’

सहवाग की यह चिंता बड़े मैचों के लिए है क्योंकि अभी टीम इंडिया को इंग्लैंड जैसी टीम से भी भिड़ना है. इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया या न्यूजीलैंड की टीमें जिनकी बैटिंग बहुत ज्यादा बढ़िया है. ऐसे में सेमीफाइनल में अगर इनमें से किसी टीम को टीम इंडिया को लक्ष्य देने की नौबत आई तो टीम की यह नीति उसे मुश्किल में डाल सकी है. सहवाग के ट्वीट का इशारा कुछ यही है. 

बड़ा स्कोर करने हो सकती है आगे दिक्कत
अब टीम इंडिया के छह मैचों में  11 अंक हैं और वह अब दूसरे स्थान पर है. हालांकि टीम सेमीफाइनल में पहुंच ही गई है. अब देखने वाली बात यह है कि सेमीफाइनल में उसका मुकाबला किससे होता है. अगर टीम इंडिया टॉप पर जाने में कामयाब होती है, तो ऐसे में उसकी नजर चौथे नंबर की टीम पर होगी. सहवाग की चिंता इंग्लैंड जैसी पिचों पर टीम इंडिया के बड़ा लक्ष्य न दे पाने की है. खास कर इंग्लैंड जैसी टीम के खिलाफ उसे बड़ा स्कोर करना ही होगा. 

धोनी की भी हुई आलोचना
इस मैच में वेस्टइंडीज की बल्लेबाजी में वह जुझारूपन नहीं दिखा सकी. इसी वजह से टीम इंडिया को 125 रनों की बड़ी जीत मिली. वहीं अफगानिस्तान ने 22 रन के स्कोर का पीछा करते हुए मैच को आखिरी ओवर तक ले जाने में कामयाब हो गई थी. इस बात ने टीम इंडिया के फैंस सहित कई पूर्व खिलाड़ियों को चिंता में डाल दिया जिसमें सहवाग भी शामिल है. भारत वेस्टइंडीज के मैच में भारतीय बल्लेबाजी के दौरान एमएस धोनी की शुरुआत में धीमी बल्लेबाजी की वीवीएस लक्ष्मण ने भी आलोचना की थी. धोनी ने आखिरी ओवर में 16 रन बटोर कर 56 रन बनाए थे जिसकी वजह से टीम इंडिया 268 रन का स्कोर खड़ा कर सकी.
(इनपुट भाषा)