बयान देकर बुरे फंसे नवजोत सिंह सिद्धू, मुंबई फिल्म सिटी में एंट्री होगी बैन!

नवजोत सिंह सिद्दू के पहले एफडब्लूआईसीई पाकिस्तानी कलाकारों के वर्क वीजा रद्द करने की मांग भी रख चुका है

बयान देकर बुरे फंसे नवजोत सिंह सिद्धू, मुंबई फिल्म सिटी में एंट्री होगी बैन!
फेमस कॉमेडी शो से बाहर होने के बाद अब सिद्दू को अब एक और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.
Play

मुंबई: पूर्व क्रिकेटर व नेता नवजोत सिंह सिंद्धू के पुलवामा पर दिए गए विवादित बयान को लेकर अपने ही जाल में फंसे नजर आ रहे हैं. जहां उनके बयान के बाद से देश भर में उनके खिलाफ हैशटैग ट्रेंड करने लगा तो वहीं अब मुंबई फिल्म सिटी में उनकी एंट्री बैन होने की नौबत आ गई है. फेमस कॉमेडी शो से बाहर होने के बाद अब सिद्दू को अब एक और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. 

फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिनेइंम्पलाईज यानि एफडब्लूआईसीई ने फिल्म सिटी प्रबंधन को एक पत्र भेजकर फिल्म सिटी में एंट्री पर रोक लगाने की मांग की हैं. कश्मीर के पुलवामा में हुये आतंकी हमले में 40 सीआरपीएफ के जवानों के शहीद होने के बाद पूर्व क्रिकेटर और एक कॉमेडी शो में जज की भूमिका निभाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू के विवादित बयान को भीरता से लेते हुये फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिनेइम्पलाईज (एफडब्लूआईसीई) ने गोरेगांव के दादा साहेब फाल्के फिल्म सिटी के प्रबंध निदेशक को एक पत्र लिखा है. 

अगर करतारपुर गलियारे पर फैसला रद्द होता है तो आतंकवादियों का हौसला बढ़ेगा: सिद्धू

पत्र में कहा है कि वह अपने स्टुडियो में नवजोत सिंह सिद्धू और पाकिस्तानी कलाकारों तथा गायकों के प्रवेश पर पूरी तरह रोक लगाएं और उनकी कोई भी शूटिंग करने की अनुमति ना दें. फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने इम्पलाईज (एफडब्लूआईसीई) में कुल 29 यूनियनें शामिल हैं जिसके सदस्यों की संख्या लाखों में है. ये सारे लोग फिल्म और टेलिविजन शो निर्माण की विभिन्न इकाइयों से जुड़े हैं. 

बता दें कि हाल ही में जब पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर आतंकी हमला हुआ तो उसके बाद सिद्धू पाकिस्तान की पैरवी करते नजर आए थे. उनके इस बयान के बाद से ही लोग उनसे नाराज हैं. इन दिनों सोशल मीडिया पर भी सिद्धू का विरोध जमकर हो रहा है.

बॉलीवुड की और भी खबरें पढ़ें

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.