close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अगले 24 घंटों में तबाही मचा सकता है फेनी तूफान, ओडिशा में कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द

तूफान फेनी ओडिशा तट की ओर बढ़ रहा है, और राज्य सरकार ने सोमवार को तीन तटीय जिलों में अपने कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं.

अगले 24 घंटों में तबाही मचा सकता है फेनी तूफान, ओडिशा में कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द
.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

भुवनेश्वर: तूफान फेनी ओडिशा तट की ओर बढ़ रहा है, और राज्य सरकार ने सोमवार को तीन तटीय जिलों में अपने कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं. गंजाम, पुरी और केंद्रापाड़ा जिलों में कर्मचारियों की छुट्टियां एहतियाती कदम के तौर पर रद्द की गई हैं. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने तूफान फेनी से निपटने को लेकर राज्य प्रशासन की तैयारियों का यहां सचिवालय भवन में जायजा लिया. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि फेनी 29 अप्रैल को अंतर्राष्ट्रीय समयानुसार 11.30 बजे चेन्नई के लगभग 840 किलोमीटर पूर्व-दक्षिणपूर्व केंद्रित था.

वह एक मई तक उत्तर प्रश्चिम की ओर बढ़ सकता है, और उसके बाद ओडिशा तट की तरफ उत्तरपूर्व की ओर फिर से पहुंच सकता है. चक्रवाती तूफान के कारण राज्य में दो मई से बारिश हो सकती है. ओडिशा के तटीय जिलों में दो मई से बारिश के साथ 40-50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं.

अगले 24 घंटे में बहुत तीव्र हो जाएगा चक्रवाती तूफान फेनी
बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान फेनी जोर पकड़ता जा रहा है और यह भारत के पूर्वी तट की ओर तीव्र रफ्तार के साथ बढ़ रहा है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को कहा कि फेनी अगले छह घंटे में तेज हो जाएगा और इसके बाद के 24 घंटे के दौरान इसकी रफ्तार अत्यंत तीव्र हो जाएगी.

चक्रवाती तूफान फेनी पिछले छह घंटों के दौरान 18 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से बंगाल की खाड़ी में उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा था और इसका केंद्र चेन्नई से 810 किलोमीटर पूर्व-दक्षिणपूर्व की ओर और मछलीपट्टनम (आंध्रप्रदेश) से 950 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में था. यह एक मई तक उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ेगा और उसके बाद उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर ओडिशा तट की तरफ मुड़ जाएगा.

पुडुचेरी, तमिलनाडु और दक्षिण आंध्रप्रदेश के तटीय इलाकों में मछुआरों को सिर्फ एक मई तक समुद्र में जाने की सलाह दी गई है. उत्तर आंध्रप्रदेश में मछुआरों को एक से तीन मई के दौरान और ओडिशा व पश्चिम बंगाल के तटीय इलाके के मछुआरों को दो मई से समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है. इन इलाकों में समुद्र में दूर स्थित लोगों को तटीय क्षेत्र में लौट आने की सलाह दी गई है.